नहीं रहे कड़वे वचन वाले जैन मुनि तरुण सागर

नई दिल्ली/गाजियाबाद : कड़वे वचन से जाने जाते प्रसिद्ध जैन मुनि तरुण सागर महाराज का शनिवार सुबह दिल्ली में निधन हो गया। वह 51 वर्ष के थे। उनकी हालत कई दिनों से गंभीर बनी हुई थी। भर्ती रहे मैक्स अस्पताल की ओर से कहा गया था कि उनकी सेहत में कोई सुधार नहीं हो रहा है। जानकारी के मुताबिक जैन मुनि कृष्‍णा नगर के राधे पूरी एक घर में उन्होंने अंतिम सांस ली।

शिष्यों का कहना है कि कैंसर की बिमारी से जूझ रहे थे
बताया जा रहा है कि जैन मुनि तरुण सागर बुखार और पीलिया की बीमारी से जूझ रहे थे। वैशाली के मैक्स अस्पताल में उन्हें करीब 15 दिन तक भर्ती रखा गया था। उनके कुछ शिष्यों ने जानकारी दी है कि जैन मुनि जी को कैंसर की बीमारी थी, जिसका वह पिछले काफी समय से सामना कर रहे थे। गत 30 अगस्त को अस्पताल से छुट्टी करवाकर उन्हें कृष्णा नगर के राधे पुरी लाया गया था। जैन मुनि राधे पूरी में एक समुदाय के घर में गत 27 जुलाई से चातुर्मास कर रहे थे।
डाक्टरों ने निधन की वजह पीलिया बताया

वहीं, डॉक्टरों के हवाले से कहा जा रहा है कि 15 दिन पहले पीलिया की शिकायत मिलने के बाद तरुण सागर महाराज को मैक्स अस्पताल में लाया गया था, लेकिन ईलाज के बाद भी उनकी सेहत में कोई सुधार नहीं हो रहा था। बुधवार को उन्होंने आगे इलाज कराने से मना कर दिया और अपने अनुयायियों के साथ बृहस्पतिवार शाम कृष्णा नगर (दिल्ली) स्थित राधापुरी जैन मंदिर चातुर्मास स्थल आ गए थे। यहां पर भी वह लगातार डॉक्टरों की निगरानी में थे।

अंतिम यात्रा के दौरान उमड़ी भीड़
प्रसिद्ध जैन मुनि तरुण सागर महाराज को उत्तर प्रदेश के मुरादनगर में समाधि दी जाएगी। तरुण सागर की अंतिम यात्रा दुहाई गांव के पास पहुंच चुकी है। यहां के तरुण सागरम तीर्थ पर श्रद्धालुओं का हुजूम लगा हुआ है। बड़ी संख्या में कारें सड़क के आसपास खड़ी है, जिससे हाईवे पर भीषण जाम लग गया है। हालांकि, पुलिस इसके मद्देनजर रूट डायवर्जन किया है, लेकिन इसका कम ही असर दिखाई दे रहा है। बड़ी संख्या में महिलाएं भी पैदल चल रहीं हैं। गाजियाबाद के रास्ते जैन मुनि के शव को राधे पुरी से मोदीनगर (यूपी) ले जाया जाएगा। यहां पर तरुण सागर जी नाम से एक आश्रम है, जहां उनका अंतिम संस्कार होगा। दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर शव यात्रा के दौरान सैकड़ों लोग शामिल थे।

प्रधानमंत्री समेत कई राजनेताओं ने जताया शोक
तरुण सागर के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक जताया है। उन्होंने शोक संदेश के साथ जैन मुनि के साथ अपनी एक फोटो भी ट्वीट की है। ट्वीट में लिखा है- ‘जैन मुनि तरुण सागर के निधन पर गहरा दुख हुआ है। हम उन्हें उनके उच्च विचारों और समाज के लिए योगदान के लिए याद करेंगे। उनके विचार लोगों को प्रेरित करते रहेंगे। वहीं, गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी शोक जताते हुए ट्वीट किया है- जैन मुनि श्रद्धेय तरुण सागर जी महाराज के असामयिक महासमाधि लेने के समाचार से मैं स्तब्ध हूं। वे प्रेरणा के स्रोत, दया के सागर एवं करुणा के आगार थे। भारतीय संत समाज के लिए उनका निर्वाण एक शून्य का निर्माण कर गया है। मैं मुनि महाराज के चरणों में अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। उधर, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी जैन मुनि तरुण सागर के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा- ‘उनके शिक्षा और विचार लोगों को प्रेरित करते रहेंगे।

Leave a Comment

अन्य समाचार

पूर्व सीएफओ से केस हारी इंफोसिस, अब ब्याज सहित देने होंगे 12.17 करोड़

नई दिल्लीः भारत की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस मंगलवार को आर्बिट्रेशन केस हार गई है। अब उसे पूर्व सीएफओ राजीव बंसल को 12.17 करोड़ रुपये और ब्याज चुकाने होंगे। दरअसल, इंफोसिस के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी विशाल सिक्‍का के कार्यकाल [Read more...]

भारतीय स्पिनरों के सामने होंगे पाकिस्तान के तेज गेंदबाज, कौन पड़ेगा भारी ?

नई दिल्लीः पूरी दुनिया में फैले क्रिकेट के प्रशंसकों को इंतजार है 19 सितंबर का जब एशिया कप में भारत का सामना चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से होगा। सदियों से पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मैदान मारने की कोशिश करते हैं। वहीं [Read more...]

मुख्य समाचार

तमिलनाडु में भ्रष्टाचार के खिलाफ द्रमुक का प्रदर्शन

चेन्नईः तमिलनाडु की अन्नाद्रमुक सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए विपक्षी द्रमुक ने अपने पार्टी प्रमुख एमके स्टालिन के नेतृत्व में मंगलवार को पूरे राज्य में अन्नाद्रमुक के खिलाफ प्रदर्शन किया। स्टालिन के अलावा, उनके बेटे उदयनिधि, बहन कनिमोझी [Read more...]

तेलंगाना में टीआरएस के लिए भाजपा चुनौती : राव

हैदराबादः भाजपा प्रवक्ता व राज्यसभा सदस्य जीवीएल नरसिम्हा राव ने मंगलवार को कहा कि तेलंगाना में कांग्रेस-तेदेपा गठजोड़ से उसकी चुनावी संभावनाओं में सुधार हुआ और वहां वह खुद को टीआरएस के लिए मुख्य चुनौती मानती है क्योंकि पार्टी अपने [Read more...]

ऊपर