जॉनसन एंड जॉनसन के पाउडर से कैंसर, 32 हजार करोड़ रु. का जुर्माना

6 महिलाओं की मौत का दावा, कंपनी के खिलाफ 9000 मामले

वाशिंगटनः भारत में बच्चों के लिए भरोसेमंद ब्रांड के नाम जानी जाती कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन को अमेरिका में तगड़ा झटका लगा है। अमेरिका में एक ज्यूरी ने कंपनी को 22 महिलाओं और उनके परिवारों को 4.69 अरब डॉलर (32 हजार करोड़ रुपए) हर्जाना देने का आदेश दिया है। दरअसल इन महिलाओं ने दावा किया था कि कंपनी के प्रोडक्ट्स के चलते उन्हें ओवेरियन कैंसर जैसी बीमारी हो गई। गौरतलब है कि कंपनी के कई प्रोडक्ट्स भारत में भी खासे लोकप्रिय हैं। अभी तक के इस तरह के लगभग 9,000 मामलों में जॉनसन एंड जॉनसन पर यह सबसे बड़ी जुर्माने की कार्रवाई है।
6 महिलाओं की हो चुकी है मौत, कंपनी आदेश के खिलाफ करेगी अपील
कंपनी ने कहा कि इस आदेश के खिलाफ अपील की जाएगी। कंपनी ने कहा इस केस का प्रोसेस पूरी तरह गलत था। जिसमें वादियों को 22 महिलाओं के ग्रुप को पेश करने की अनुमति दे दी गई। एक ही केस में सभी महिलाएं ओवेरियन कैंसर होने का आरोप लगा रही थीं। इस केस में हर वादी और उनके परिवार के सदस्यों को समान हर्जाना देना का आदेश दिया गया है। आरोप है कि जॉनसन एंड जॉनसन को इस बारे में पहले से ही पता है और कंपनी पिछले 40 साल से इस बात को छिपाए हुए है। हालांकि जॉनसन एंड जॉनसन ने इस मामले में चली सुनवाई को एकतरफा बताया है। याचिकाकर्ताओं ने आरोप लगाया कि बेबी प्रोडक्ट कंपनी के टैलकम पाउडर में एसबेस्टस पाया गया, जिससे 1970 के दशक में उन्हें ओवेरियन कैंसर हो गया। ऐसे ही मामलों में 6 महिलाओं की मृत्यु भी हो चुकी है। जॉनसन एंड जॉनसन ने दलील दी कि उसके टैल्क प्रोडक्ट्स में एसबेस्टस नहीं होता है। कंपनी ने कहा कि वह कोर्ट के फैसले के खिलाफ कोर्ट में अपील करेगी।
इससे पहले भी कई बार लगाया जा चुका है हर्जाना
जॉनसन एंड जॉनसन पाउडर के इस्तेमाल से कैंसर होने के मामले में कई बार कंपनी पर जुर्माना लगाया जा चुका है। लेकिन, यह इसके लिए अब तक का सबसे बड़ा आर्थिक दंड है। इस समय कंपनी पर लगभग 9,000 मुकदमे चल रहे हैं। इनमें पाउडर के इस्तेमाल से कैंसर होने और इसमें एसबेस्टस होने के आरोप लगाए गए हैं। अभियोजन पक्ष के वकील मार्क लैनियर ने अदालत को बताया कि कंपनी इस बात को जानती थी कि उसके टैलकम पाउडर में एसबेस्टस मिला हुआ है। इसके बावजूद उपभोक्ताओं को इसके प्रति आगाह नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि लोगों की जिंदगी को इस तरह से खतरे में नहीं डाला जा सकता है। यह सही नहीं है। महिलाएं तो टेलकम पाउडर को अपने जननांगों में भी इस्तेमाल करती हैं, ताकि यह नमी को सोख ले और किसी तरह की बदबू न आए।
पिछले साल अमेरिका में एक शिकायत दर्ज हुई, जिसके अनुसार महिलाएं जॉनसन एंड जॉनसन टेलकम पाउडर व शावर टू शावर पाउडर का नियमित तौर पर इस्तेमाल करती हैं। इसे महिलाओं में जेनेटाइल हाइजीन के लिए काफी इस्तेमाल किया जाता है। महिलाओं ने बताया कि बाद में उन्हें गर्भाशय का कैंसर होने का पता चला।
कंपनी के शेयरों में गिरावट
लगभग पांच सप्ताह तक चली सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों ने अपनी ओर से विशेषज्ञ पेश किए। हालांकि अदालत के फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कंपनी ने कहा कि मामले की सुनवाई सही तरीके से नहीं हुई है और वह फैसले को चुनौती देगी। अदालत का फैसला आने के बाद शेयर बाजार में जॉनसन एंड जॉनसन के शेयर का मूल्य गिर गया।

Leave a Comment

अन्य समाचार

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह राजनीति नहीं देशभक्ति है : जावड़ेकर

नयी दिल्ली : विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह पर विश्वविद्यालयों को जारी संवाद पर विवाद के मद्देनजर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है, बल्कि यह देशभक्ति [Read more...]

संघ के विचारधारा से नहीं चलेगा देश : राहुल

विश्व में आतंक प्रभावित देशों में भारत तीसरे स्‍थान पर, भारत समेत 5 देशों में 59 फीसदी हमले

तीन दिन पहले ऐसा फैसला सुनाया जिसके बारे बात करने में भी संकोच करती थी अन्य सरकारः पीएम मोदी

स्वामी असीमानंद को बरी करने वाले जज भाजपा में शामिल होना चाहते हैं

भारत-पाक बातचीत रद्द होने से बौखलाया पाक, इमरान खान ने यह कहा

खेल रत्न के लिए अब कोर्ट नहीं जाएंगे बजरंग, मेंटर योगेश्वर की सलाह के बाद बदला फैसला

एशिया कप के रिकार्डधारी बने धवन, 34 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ

ट्रंप सरकार एच-4 वीजाधारकों के वर्क परमिट को रद्द करेगी, भारतीयों पर पड़ेगा सर्वाधिक असर

मुख्य समाचार

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह राजनीति नहीं देशभक्ति है : जावड़ेकर

नयी दिल्ली : विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह पर विश्वविद्यालयों को जारी संवाद पर विवाद के मद्देनजर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है, बल्कि यह देशभक्ति [Read more...]

ऊपर