छात्रवृत्ति हड़पने के षडयंत्र की होगी सीबीआई जांच

कल्याण विभाग में रुड़की की मदरहूड विश्वविद्यालय के नाम पर आया था 3545 फर्जी छात्रों का आवेदन

रांची/रुड़कीः उत्तराखंड की मदरहूड विश्वविद्यालय रुड़की के माध्यम से 3545 फर्जी छात्रों द्वारा छात्रवृत्ति के लिए किए गए ऑनलाइन आवेदन के मामले की सीबीआई जांच होगी। कल्याण विभाग ने इस मामले की जांच सक्षम अनुसंधान एजेंसी से कराने का अनुरोध किया था। कल्याण विभाग का कहना है कि इसमें कोई संगठित गिरोह है, जो फर्जी भुगतान लेने का प्रयास कर रहा था। इस मामले में मदरहूड विश्वविद्यालय को फर्जीवाड़े के विरुद्ध उत्तराखंड थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है। गृह विभाग द्वारा पुलिस मुख्यालय को इस मामले में सीबीआई जांच के लिए कार्रवाई करते हुए रिपोर्ट देने को कहा गया है। जानकारों का कहना है कि मामले की सीबीआई जांच में चौंकाने वाले मामले सामने आएंगे। साथ ही कई और मामले सामने आएगें।
एक ही जिले से 3230 छात्र होने से विभाग को हुआ शक
मदरहूड विश्वविद्यालय में अध्ययनरत दिखाते हुए झारखंड सरकार के कल्याण विभाग में छात्रवृत्ति के लिए ऑनलाइन आवेदन करने वाले 3545 छात्रों में 3230 छात्र सिर्फ गढ़वा जिले के थे। किसी एक ही जिले से इतनी बड़ी संख्या में छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करने वाले छात्रों को देखकर ही विभाग को इस मामले में शक हुआ था।
3545 छात्रों के नाम पर किया गया था आवेदन
झारखंड सरकार के कल्याण विभाग के पोर्टल पर छात्रवृत्ति के लिए उत्तराखंड के मदरहूड विश्वविद्यालय रुड़की के शैक्षणिक सत्र 2016-17 के 3545 छात्रों ने आवेदन दिया था। सभी छात्रों को 43 पाठ्यक्रम में अध्ययनरत दिखाया गया था और छात्रवृत्ति की मांग की गई थी।
आवेदन करने वाला कोई छात्र नहीं पढ़ रहा
आश्चर्य जनक एक बात और सामने आयी है वह यह कि सभी छात्रों को छात्रवृत्ति देने के लिए मदरहुड विश्वविद्यालय रुड़की ने आवेदन को अग्रसारित भी किया था। इस मामले में विभाग को शक हुआ तो मामले की जांच कराई गई। स्पष्ट हो गया कि सारा मामला ही फर्जी है। जांच आदिवासी कल्याण आयुक्त गौरी शंकर मिंज और कल्याण विभाग के संयुक्त सीके सिंह ने संयुक्त से जांच की तो पता चला कि आवेदन करने वाले मे कोई भी छात्र वहां पढ़ाई नहीं कर रहा था। दोनों अफसरों द्वारा संस्थान में भौतिक रूप से जाकर जांच करने पर इस बात का पता चला कि सरकार के ई कल्याण पोर्टल पर छात्रवृति प्राप्त करने के लिए निबंधन के लिए आवश्यक सभी दस्तावेज को अपलोड किया गया था। इसके लिए संबंधित संस्थान को यूजर आईडी एवं पासवर्ड उपलब्ध कराया गया था।
उसका उपयोग करते हुए ही 3545 छात्रों के आवेदन अग्रसारित किए गए थे। जांच दल द्वारा अग्रसारित किए गए आवेदनों से संबंधित छात्रों के भौतिक सत्यापन की जांच में पाया गया कि 3545 छात्रो में से कोई छात्र वहां नहीं पढ़ रहा था और न ही मदरहूड विश्वविद्यालय द्वारा छात्रवृत्ति के लिए झारखंड सरकार के कल्याण विभाग के ई-पोर्टल पर कोई अनुरोध नहीं किया गया था।
आवेदन करने वालों में 3545 में से 3230 छात्र सिर्फ गढ़वा जिले के हैं
मदरहूड विश्वविद्यालय में अध्ययनरत दिखाते हुए झारखंड सरकार के कल्याण विभाग में छात्रवृत्ति के लिए ऑनलाइन आवेदन करने वाले 3545 छात्रों में 3230 छात्र सिर्फ गढ़वा जिले के थे। किसी एक ही जिले से इतनी बड़ी संख्या में छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करने वाले छात्रों को देखकर ही विभाग को इस मामले में शक हुआ था।
जिन पाठयक्रमों में अध्‍ययनरत है वो पाठयक्रम विवि में नहीं 
मदरहूड विश्वविद्यालय द्वारा जिन 3545 छात्रों को अध्ययनरत दिखाया गया है। इनमें 1570 छात्र ऐसे पाए गए जिन्हें जिन पाठयक्रमों में अध्ययनरत दिखाया गया था, उनमें अधिकाशं पाठ्यक्रम मदरहूड विश्वविद्यालय में नहीं है।
सात करोड़ रुपए का होता गबन
अगर मामले की जांच समय रहते नहीं हुई होती और सभी संबंधित छात्रों को झारखंड सरकार के कल्याण विभाग द्वारा भुगतान दे दिया जाता तो करीब सात करोड़ रुपए का गलत भुगतान हो जाता।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

65 वर्षीय अमेरिकी महिला से 27 वर्षीय राज मिस्त्री ने रचायी शादी

नयी दिल्लीः फेसबुक जहां एक तरफ दो छोर के लोगों को जोड़ने का काम करता है वहीं दुसरी तरफ शादी विवाह का गंतव्य भी बनता जा रहा है। पंजाब में पेशे से 27 साल के राजमिस्‍त्री लड़के ने फेसबुक पर [Read more...]

अमेरिकी रेस्त्रां ने ‘ट्रंप के लिए काम करने की वजह’ इनको रेस्‍त्रां से बाहर निकाला

नयी दिल्लीः अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लिए काम करने वाली व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा सैंडर्स को अमेरिकी के वर्जीनिया में लेकिस्नटोन रेड हेन रेस्‍त्रां के मालिक ने डोनाल्‍ड ट्रंप के लिए काम करने की वजह से अपने [Read more...]

मुख्य समाचार

65 वर्षीय अमेरिकी महिला से 27 वर्षीय राज मिस्त्री ने रचायी शादी

नयी दिल्लीः फेसबुक जहां एक तरफ दो छोर के लोगों को जोड़ने का काम करता है वहीं दुसरी तरफ शादी विवाह का गंतव्य भी बनता जा रहा है। पंजाब में पेशे से 27 साल के राजमिस्‍त्री लड़के ने फेसबुक पर [Read more...]

वायरसों को फैलने से रोकने वाले एन्जाइम का पता चला

वाशिंगटनः वैज्ञानिकों ने इस बात का पता लगा लिया है कि मनुष्यों और अन्य स्तनधारी जीवों में कैसे प्राकृतिक रूप से उत्पन्न होने वाले एन्जाइम वायरसों को फैलने से रोकते हैं। इस अध्ययन से वायरस रोधी नई दवा का मार्ग [Read more...]

ऊपर