गुजरात की 5 छोटी लाइनों को संरक्षित करने का निर्णय

वडोदराः रेल मंत्रालय ने 19 वीं सदी में वडोदरा रियासत (तत्कालीन रियासत के गायकवाड़ वडोदरा स्टेट रेलवे – जीबीएसआर) द्वारा निर्माण कराये गये गुजरात की 5 छोटी लाइनों को संरक्षित करने का निर्णय किया। फिलहाल पश्चिम रेलवे इसे संचालित करता है।
रेलवे बोर्ड के कार्यकारी निदेशक (धरोहर) सुब्रता नाथ ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने हाल में पश्चिम रेलवे को एक चिट्ठी लिखकर सूचना दी कि राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए यह फैसला किया गया है। इन पुरानी लाइनों का आज भी इस्तेमाल किया जाता हैं। इनमें से एक 33 किलोमीटर लंबी दभोई-मियागम लाइन भारत की पहली छोटी लाइन है। वर्ष 1862 में जब डिब्बों को बैल खींचते थे तब इस लाइन ने काम करना शुरू किया था। इसके एक साल बाद भाप से चलने वाले इंजन आये।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

एससी-एसटी एक्ट को लेकर सवर्णों को मनाने में जुटे चौहान

भोपाल: अनुसूचित जाति-जनजाति संशोधन अधिनियम पर केंद्र सरकार का फैसला अब भाजपा के गले की फांस बनता जा रहा है। इस एक्ट को लेकर नाराज सवर्णों को मनाने की कोशिश कर रहे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने [Read more...]

इंस्पेक्टर ने जन प्रतिनिधियों को दी जुबान काटने की धमकी

अमरावती: आंध्र प्रदेश के अनंतपुरम जिले में कादिरी के पुलिस इंस्पेक्टर माधव ने सत्तारूढ़ तेदेपा के एक सांसद पर निशाना साधते हुए धमकी दी कि अगर निर्वाचित प्रतिनिधि पुलिस बल का मनोबल गिराने की बात करेंगे तो उनकी जुबान काट [Read more...]

मुख्य समाचार

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह राजनीति नहीं देशभक्ति है : जावड़ेकर

नयी दिल्ली : विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह पर विश्वविद्यालयों को जारी संवाद पर विवाद के मद्देनजर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है, बल्कि यह देशभक्ति [Read more...]

ऊपर