गांव में खुला बैंक ऑफ ग्रामसभा, 100 लोगों ने खुलवाया खाता

खूंटीः पत्थलगड़ी आंदोलन के नेता जोसेफ पूर्ति ने भगवान बिरसा मुंडा का जन्म तीन जून के दिवस पर मुरहू ब्लॉक के उदबुरू ग्रामसभा ने सरकार को एक बार फिर चुनौती देते हुए बैंक ऑफ ग्रामसभा, आदिवासी शिक्षा बोर्ड, स्वास्थ्य और रक्षा बोर्ड के केंद्रीय कार्यालयों का उद्धाटन किया गया। उदबुरू पहाड़ पर गांव के पाहन और पुजारियों ने जोसेफ उर्फ युसूफ पूर्ति की उपस्थिति में पारंपरिक रूप से पूजा-पाठ कर कार्यालयों का शिलान्यास कर रविवार से ही बैंक ने काम करना शुरू कर दिया। मौके पर शिविर लगा कर खाता खोलने का भी काम शुरू कर दिया गया।
यूसुफ पूर्ति ने जारी किया पासबुक
आंदोलन के अगुवा जोसेफ उर्फ यूसुफ पूर्ति ने बैंक के पासबुक जारी करते हुए पहले ग्राहक लोबोदा गांव के बिरसा टूटी को पासबुक दिया और बैंक ऑफ ग्रामसभा के विधिवत संचालन की घोषणा की। पहले दिन 100 लोगों ने अपना खाता खुलवाया। जोसेफ पूर्ति ने कहा कि बैंक खोलकर ग्रामसभा ने कोई गलत काम नहीं किया है। यह आदिवासियों के विकास के लिए है। उन्होंने कहा कि पहले भी ग्रामीण क्षेत्रों में इस तरह के बैंक चलते रहे हैं। जब उनसे पूछा गया कि इतनी भारी भरकम रकम कहां से तो आयेगी, तो पूर्ति ने कहा कि ट्रायबल सब प्लान से भारत सरकार पैसे देगी। जोसेफ पूर्ति ने कहा कि जनजातीय उप योजना के तहत भारत सरकार इन कार्यों के लिए रकम देगी। उन्होंने कहा कि फिलहाल भारत सरकार के नोट ही चलेंगे, लेकिन वक्त आने पर ग्रामसभा अपनी करेंसी जारी करने पर विचार कर सकती है। यूसुफ पूर्ति ने कहा कि बैंक ऑफ ग्रामसभा उसी तरह काम करेगा, जिस तरह अन्य सरकारी बैंक करते हैं। उन्होंने कहा कि बैंक में रकम जमा करने वालों को ब्याज भी दिया जायेगा और उन्हें ऋण की भी सुविधा दी जायेगी।
काम बढ़ने पर खोली जाएंगी शाखाएं
पूर्ति ने कहा बैंकों में बहाली के लिए ग्रामसभा बहुत जल्द कर्मचारियों की नियुक्ति करेगी। इसके लिए वैकेंसी निकाली जायेगी। उन्होंने कहा कि योग्यतानुसार ग्रामसभा के लोगों को ही बैंक में नियुक्त किया जायेगा। उन्होंने कहा कि बैंक में काम करने वालों को वेतन दिया जायेगा। वेतन की राशि का निर्धारण बाद में किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्रामसभा का अपना स्वास्थ्य विभाग होगा। साथ ही सुरक्षा के लिए गांव वाले स्वशासन व्यवस्था के तहत अपने क्षेत्रों की सुरक्षा खुद करेंगे। उन्होंने कहा कि उदबुरू में ही आदिवासी शिक्षा बोर्ड, रक्षा और स्वास्थ्य विभाग का केंद्रीय कार्यालय होगा। मौके पर बलराम समद समेत कई गांवो के ग्रामप्रधान व बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।
15 नवंबर को जयंती मनाना गलत
जोसेफ पूर्ति ने कहा कि भगवान बिरसा मुंडा का जन्म तीन जून को हुआ था। 15 नवंबर को उनकी जयंती मनाना गलत है। उन्होंने कहा कि भबवान बिरसा मुंडा ने आदिवासियों के हित के लिए अपनी कुर्बानी दे दी। इसलिए उनके जन्म दिवस पर तीन जून को बैंक ऑफ ग्रामसभा, आदिवासी शिक्षा बोर्ड, स्वास्थ्य और रक्षा बोर्ड के केंद्रीय कार्यालयों का शिलान्यास किया गया। जब उनसे पूछा गया कि अब तक तो 15 नवंबर को ही बिरसा जयंती मनायी जाती है, इस पर पूर्ति ने कहा कि यह गलत है। उनका जन्म तीन जून को चलकद के बहंबा गांव में हुआ था। आदिवासियों द्वारा किये गये शोध में इस बात का प्रमाण मिलता है कि बिरसा मुंडा का जन्म 15 नवंबर को नहीं, तीन जून को हुआ था। उन्होंने कहा कि ग्रामसभा हर साल तीन जून को ही बिरसा मुंडा की जयंती मनायेगी।

Leave a Comment

अन्य समाचार

दुष्कर्म के बाद किशोरी का सिर काटकर अपने साथ लेते गये अपराधी

रांची : मानवता को तार-तार कर देने वाली सनसनीखेज घटना सामने आयी है। अपराधियों ने पहले किशोरी के साथ दुष्कर्म किया, फिर उसको मार डाला। अपराधियों ने जाते-जाते किशोरी का सिर भी अपने साथ लेते गये। यह घृणित और खौफनाक [Read more...]

धनबाद के शुभम को गूगल ने‌ दिया 1 करोड़ का पैकेज का ऑफर

धनबाद : धनबाद के रहने वाले शुभम शेखर ने अपनी मेहनत के बल पर ना सिर्फ एक नयी उपलब्धि हासिल ‌की है, बल्कि अपने देश और राज्य का भी नाम रौशन किया है। उन्हें नेशनल ज्योग्राफिक के तरफ से 1.72 [Read more...]

मुख्य समाचार

आस्ट्रेलिया ओपन : जोकोविच और सेरेना प्री क्वार्टर फाइनल में पहुंचे

मेलबर्न : सेरेना विलियम्स ने यूक्रेन की दयाना यास्त्रेमस्का को टेनिस का सबक सिखा यहां आस्ट्रेलियाई ओपन महिला एकल के अंतिम-16 में जगह बनायी, सेरना ने यास्त्रेमस्का को 6-2, 6-1 से हराया। उनका अगला मुकाबला विश्व में नंबर एक [Read more...]

सौंदर्य उद्योग में बढ़ी मांग, पाकिस्‍तान ने चीन को 1 लाख किलो मानव बाल बेचे

इस्लामाबाद : चीन में जिस गति से सौन्‍दर्य प्रसाधान उद्योग बढ़ रहे है उससे लगता है कि बहुत जल्‍द वो इस क्षेत्र में सबसे बड़ा बाजार बन जायेगा। तथा पूरे विश्‍व को प्रसाधन उत्‍पादों का निर्यात करेगा। इसी के मद्देनजर [Read more...]

ऊपर