गांव में खुला बैंक ऑफ ग्रामसभा, 100 लोगों ने खुलवाया खाता

खूंटीः पत्थलगड़ी आंदोलन के नेता जोसेफ पूर्ति ने भगवान बिरसा मुंडा का जन्म तीन जून के दिवस पर मुरहू ब्लॉक के उदबुरू ग्रामसभा ने सरकार को एक बार फिर चुनौती देते हुए बैंक ऑफ ग्रामसभा, आदिवासी शिक्षा बोर्ड, स्वास्थ्य और रक्षा बोर्ड के केंद्रीय कार्यालयों का उद्धाटन किया गया। उदबुरू पहाड़ पर गांव के पाहन और पुजारियों ने जोसेफ उर्फ युसूफ पूर्ति की उपस्थिति में पारंपरिक रूप से पूजा-पाठ कर कार्यालयों का शिलान्यास कर रविवार से ही बैंक ने काम करना शुरू कर दिया। मौके पर शिविर लगा कर खाता खोलने का भी काम शुरू कर दिया गया।
यूसुफ पूर्ति ने जारी किया पासबुक
आंदोलन के अगुवा जोसेफ उर्फ यूसुफ पूर्ति ने बैंक के पासबुक जारी करते हुए पहले ग्राहक लोबोदा गांव के बिरसा टूटी को पासबुक दिया और बैंक ऑफ ग्रामसभा के विधिवत संचालन की घोषणा की। पहले दिन 100 लोगों ने अपना खाता खुलवाया। जोसेफ पूर्ति ने कहा कि बैंक खोलकर ग्रामसभा ने कोई गलत काम नहीं किया है। यह आदिवासियों के विकास के लिए है। उन्होंने कहा कि पहले भी ग्रामीण क्षेत्रों में इस तरह के बैंक चलते रहे हैं। जब उनसे पूछा गया कि इतनी भारी भरकम रकम कहां से तो आयेगी, तो पूर्ति ने कहा कि ट्रायबल सब प्लान से भारत सरकार पैसे देगी। जोसेफ पूर्ति ने कहा कि जनजातीय उप योजना के तहत भारत सरकार इन कार्यों के लिए रकम देगी। उन्होंने कहा कि फिलहाल भारत सरकार के नोट ही चलेंगे, लेकिन वक्त आने पर ग्रामसभा अपनी करेंसी जारी करने पर विचार कर सकती है। यूसुफ पूर्ति ने कहा कि बैंक ऑफ ग्रामसभा उसी तरह काम करेगा, जिस तरह अन्य सरकारी बैंक करते हैं। उन्होंने कहा कि बैंक में रकम जमा करने वालों को ब्याज भी दिया जायेगा और उन्हें ऋण की भी सुविधा दी जायेगी।
काम बढ़ने पर खोली जाएंगी शाखाएं
पूर्ति ने कहा बैंकों में बहाली के लिए ग्रामसभा बहुत जल्द कर्मचारियों की नियुक्ति करेगी। इसके लिए वैकेंसी निकाली जायेगी। उन्होंने कहा कि योग्यतानुसार ग्रामसभा के लोगों को ही बैंक में नियुक्त किया जायेगा। उन्होंने कहा कि बैंक में काम करने वालों को वेतन दिया जायेगा। वेतन की राशि का निर्धारण बाद में किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ग्रामसभा का अपना स्वास्थ्य विभाग होगा। साथ ही सुरक्षा के लिए गांव वाले स्वशासन व्यवस्था के तहत अपने क्षेत्रों की सुरक्षा खुद करेंगे। उन्होंने कहा कि उदबुरू में ही आदिवासी शिक्षा बोर्ड, रक्षा और स्वास्थ्य विभाग का केंद्रीय कार्यालय होगा। मौके पर बलराम समद समेत कई गांवो के ग्रामप्रधान व बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।
15 नवंबर को जयंती मनाना गलत
जोसेफ पूर्ति ने कहा कि भगवान बिरसा मुंडा का जन्म तीन जून को हुआ था। 15 नवंबर को उनकी जयंती मनाना गलत है। उन्होंने कहा कि भबवान बिरसा मुंडा ने आदिवासियों के हित के लिए अपनी कुर्बानी दे दी। इसलिए उनके जन्म दिवस पर तीन जून को बैंक ऑफ ग्रामसभा, आदिवासी शिक्षा बोर्ड, स्वास्थ्य और रक्षा बोर्ड के केंद्रीय कार्यालयों का शिलान्यास किया गया। जब उनसे पूछा गया कि अब तक तो 15 नवंबर को ही बिरसा जयंती मनायी जाती है, इस पर पूर्ति ने कहा कि यह गलत है। उनका जन्म तीन जून को चलकद के बहंबा गांव में हुआ था। आदिवासियों द्वारा किये गये शोध में इस बात का प्रमाण मिलता है कि बिरसा मुंडा का जन्म 15 नवंबर को नहीं, तीन जून को हुआ था। उन्होंने कहा कि ग्रामसभा हर साल तीन जून को ही बिरसा मुंडा की जयंती मनायेगी।

Leave a Comment

अन्य समाचार

पांच वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म के मामले में आरोपित को 20 वर्ष की सजा

रामगढ़ : जिला जज प्रथम बबीता प्रसाद की अदालत ने बुधवार को पांच वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म के मामले में आरोपित मनीरूल अंसारी उर्फ हंसा को 20 वर्ष की सजा सुनाई है। इसके अलावा तीन हजार रुपये का जुर्माना भी [Read more...]

लालू यादव को 30 अगस्त तक करना पड़ेगा आत्मसमर्पण

पैरोल बढ़ाने से झारखंड हाईकोर्ट का इनकार रांचीः झारखंड हाईकोर्ट ने लालू यादव की पैरोल अवधि 3 महीने अधिक बढ़ाए जाने की अपील को खारिज कर दी। अदालत ने उन्हें 30 अगस्त तक आत्मसमर्पण करने के आदेश दिए हैं। चारा घोटाले [Read more...]

मुख्य समाचार

हरियाणा 26 जनवरी तक आवारा पशु मुक्त राज्य होगा

चंडीगढ़ : हरियाणा में सड़क दुर्घटनाओं और अकाल मौत का अक्सर कारण बनने वाले आवारा पशुओं को सड़कों से हटाने को लेकर राज्य सरकार गम्भीर हो गयी है और उसने 26 जनवरी सन् 2019 तक राज्य को आवारा पशु मुक्त [Read more...]

मोदी सरकार पर सैनिकों की गम्भीर उपेक्षा का आरोप

रायपुर : पूर्व सैन्य अधिकारियों के संगठन वेटरन इंडिया की छत्तीसगढ़ इकाई के अध्यक्ष बिग्रेडियर (से.नि.) प्रदीप यदु ने मोदी सरकार पर सेना की उपेक्षा करने तथा वन रैंक वन पेंशन मामले में देश को गुमराह करने का आरोप लगाया [Read more...]

ऊपर