कुमारस्वामी ने बाढ़ राहत हेतु केंद्र से 1,199 करोड़ मांगा

नयी दिल्लीः कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से राहत के तौर पर बाढ़ प्रभावित 7 जिलों के लिए 1,199 करोड़ रुपये की मांग की। प्रतिनिधिमंडल में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, उपमुख्यमंत्री जी. परमेश्वर और मंत्री एचडी रेवन्ना, आरवी देशपांडे, डीके शिवकुमार एवं कृष्ण बी गौड़ा शामिल थे। बैठक में भाजपा की कर्नाटक इकाई के नेताओं को भी आमंत्रित किया गया था लेकिन उन्होंने इसमें हिस्सा नहीं लेने का निर्णय लिया।
बैठक के बाद कुमारस्वामी ने कहा कि राज्य में बाढ़ एवं भूस्खलन से 3,705.87 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। उनकी सरकार राज्य आपदा राहत कोष से 49 करोड़ रुपये और राज्य कोष से 200 करोड़ रुपये की अतिरिक्त राशि प्रभावित जिलों में तत्काल राहत एवं पुनर्वास कार्य हेतु जारी कर चुकी है। बाद में उन्होंने केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान से भी मुलाकात की।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

केजरीवाल ने शाह को दी बहस की चुनौती

नयी दिल्लीः भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर काम नहीं करने के बयान पर केजरीवाल ने रविवार को कहा कि जितना काम उन्होंने किया है उसे कोई चुनौती नहीं दे सकता। जनता की सेवा का [Read more...]

मप्र, छत्तीसगढ़ और राजस्थान विस चुनाव लड़ेगी सवर्ण समाज पार्टी

रीवाः अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम और आरक्षण के विरोध में प्रदर्शन की अनेक घटनाओं के बीच सवर्ण समाज पार्टी के अध्यक्ष व मध्यप्रदेश के विंध्य अंचल के प्रमुख लक्ष्मण तिवारी ने कहा कि उनकी पार्टी ने मध्यप्रदेश के 230 [Read more...]

मुख्य समाचार

गम में डूबा व गुस्से उबल रहा है इस्लामपुर

भाजपा ने दिया मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रु. इस्लामपुर : अपने इलाके दो छात्रों को गोलियों से मरते हुए देख इस्लामपुर गम और गुस्से में उबल रहा है। प्रशासन के खिलाफ लोगों का जबर्दस्त गुस्सा है। इसका कोपभाजन सत्ताधारी [Read more...]

ब्रेकिंग न्यूजः काकद्वीप में निर्माणाधीन पुल ढहा

एक महीने में ब्रिज गिरने की तीसरी घटना काकद्वीपः दक्षिण 24 परगना : सोमवार की सुबह काकद्वीप में निर्माणाधीन पुल ढह गया। इस घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। इस घटना को लेकर डीएम वाई रत्नाकर ने [Read more...]

ऊपर