कश्मीर पर चिदंबरम के प्रस्ताव को लेकर नायडू ने साधा निशाना

नयी दिल्लीः कश्मीर मुद्दे पर पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम की ओर से दिये गये प्रस्ताव को लेकर उन पर निशाना साधते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कहा कि इससे राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता होता है। पार्टी ने जोर देकर कहा कि मोदी सरकार बगैर कोई समझौता किये देश की एकता एवं अखंडता सुनिश्चित करेगी।
भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने चिदंबरम के प्रस्ताव को आपत्तिजनक करार देते हुए एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यह और कुछ नहीं बल्कि सस्ती राजनीति है। इससे भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता होगा। उन्होंने कहा कि एक पूर्व गृह मंत्री से ऐसी टिप्पणी की उम्मीद नहीं थी।
कश्मीर के हालात का क्रांतिकारी समाधान सुझाते हुए चिदंबरम ने बुधवार को उस ‘बड़े समझौते’ (ग्रैंड बारगेन) की बहाली की वकालत की थी जिसके तहत कश्मीर का भारत में विलय हुआ था और उसे व्यापक स्वायत्ता दी गयी थी। चिदंबरम ने कहा था कि यदि ऐसा नहीं हुआ तो देश को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। उन्होंने विवादित सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून (अफ्सपा) में ढील देने का भी सुझाव दिया था।
मंत्री ने कहा कि सत्ता गंवाने के बाद वह उपदेश दे रहे हैं। हमारी पार्टी और सरकार देश की एकता एवं सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। इसकी एकता एवं अखंडता सर्वोपरि है न कि एक आतंकवादी की जिंदगी। चाहे कुछ भी हो जाए हम बगैर किसी समझौते के इसकी सुरक्षा करेंगे।
पीडीपी के साथ भाजपा के गठबंधन को लेकर कश्मीर में खौफ का माहौल होने की चिदंबरम की टिप्पणी पर नायडू ने कहा कि कांग्रेस इतने सालों तक नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी के साथ गठबंधन में रही और पीडीपी-भाजपा के सत्ता में आने से आये ऐतिहासिक मोड़ को वह पचा नहीं पा रही है। कांग्रेस ने इतने सालों तक देश पर शासन किया। उसने नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी के साथ सरकारें बनायी। वह गृह मंत्री थे। जब वह टूटे हुए वादों की बातें करते हैं तो उन्हें बताना चाहिए कि कौन से वादे पूरे नहीं हुए।
नायडू ने कांग्रेस की सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा कि कश्मीर की समस्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पैदा नहीं की और लोग जानते हैं कि उस वक्त सत्ता में कौन थे और वे इससे कैसे निपटे। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार कश्मीर के विकास के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।
हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वानी की मुठभेड़ में मौत का जिक्र करते हुए नायडू ने कुछ पार्टियों और स्तंभकारों पर आरोप लगाया कि वे प्रत्यक्ष तौर पर या परोक्ष तौर पर एक ऐसे आतंकवादी से हमदर्दी जता रहे हैं जो हत्या के 15 मामलों में वांछित था। उन्होंने कहा कि कोई किसी आतंकवादी से कैसे हमदर्दी रख सकता है ?…..कश्मीर के बारे में दुष्प्रचार कर रहे लोग देश के साथ नाइंसाफी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यदि सुरक्षा बल गलतियां करते हैं तो व्यवस्था में ऐसा तंत्र है जिसके तहत उसका निदान होता है।
नायडू ने कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की ओर से लोकसभा में कश्मीर में ‘रायशुमारी’ कराने की मांग का भी जिक्र किया और कहा कि सिंधिया ने उनसे स्पष्ट किया कि उनके कहने का मतलब ‘प्लेबिसाइट’ यानी ‘जनमत-संग्रह’ नहीं था। सिंधिया ने उर्दू शब्द ‘रायशुमारी’ का इस्तेमाल किया था।

Leave a Comment

अन्य समाचार

पूर्व सीएफओ से केस हारी इंफोसिस, अब ब्याज सहित देने होंगे 12.17 करोड़

नई दिल्लीः भारत की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस मंगलवार को आर्बिट्रेशन केस हार गई है। अब उसे पूर्व सीएफओ राजीव बंसल को 12.17 करोड़ रुपये और ब्याज चुकाने होंगे। दरअसल, इंफोसिस के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी विशाल सिक्‍का के कार्यकाल [Read more...]

भारतीय स्पिनरों के सामने होंगे पाकिस्तान के तेज गेंदबाज, कौन पड़ेगा भारी ?

नई दिल्लीः पूरी दुनिया में फैले क्रिकेट के प्रशंसकों को इंतजार है 19 सितंबर का जब एशिया कप में भारत का सामना चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से होगा। सदियों से पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मैदान मारने की कोशिश करते हैं। वहीं [Read more...]

मुख्य समाचार

ब्रिटिश गोताखोर ने एलन मस्क पर किया मानहानि मुकदमा

कैलिफोर्नियाः थाईलैंड की गुफा में फंसे बच्चों को बचाने वाले ब्रिटिश गोताखोर वर्नोन अनस्वोर्थ ने अब इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला के सीईओ एलन मस्क के खिलाफ 75,000 डॉलर (54 लाख 40 हजार रुपए) का मानहानि का मुकदमा किया है। अनस्वोर्थ [Read more...]

पूर्व सीएफओ से केस हारी इंफोसिस, अब ब्याज सहित देने होंगे 12.17 करोड़

नई दिल्लीः भारत की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस मंगलवार को आर्बिट्रेशन केस हार गई है। अब उसे पूर्व सीएफओ राजीव बंसल को 12.17 करोड़ रुपये और ब्याज चुकाने होंगे। दरअसल, इंफोसिस के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी विशाल सिक्‍का के कार्यकाल [Read more...]

ऊपर