इमरान के प्रधानमंत्री बनने के सपने छोटे दल व निर्दलियों के गठबंधन तोड़ सकते है

इस्‍लामाबादः पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर और राजनेता इमरान खान की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इमरान को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद के लिए विपक्षी पार्टियों से बड़ा झटका मिला है। पाकिस्तान के चुनावों में धांधली का आरोप लगाने वाले दो बड़े दलों ने एक साथ आने का मन बना लिया है। ये पार्टियां अपना प्रधानमंत्री उम्मीदवार भी मैदान में उतार रही हैं। मालूम हो कि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के नेता इमरान खान की ताजपोशी का दिन तय हो गया है। इमरान खान 11 अगस्त को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं। जिसकी तैयारियां शुरु हो गई है। इमरान की पार्टी को पाक असेंबली चुनाव में 272 में से 116 सीटें मिली है।
बिलावल भुट्टों की अगुवाई वाले पीपीपी के साथ छोटे दल व निर्दलीय उम्मीदवार आये
पाकिस्तानी मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) की मरियम औरंगजेब ने कहा, ‘देखिए, यह एक ऐसा गठबंधन है जो धोखाधड़ी कर हुए चुनावों के खिलाफ है।’ हालांकि ऐसा कहा जा रहा है कि विपक्षी गठबंधन के पास इमरान खान के प्रधानमंत्री पद तक पहुंचने से रोकने के लिए संख्या नहीं है। बता दें कि पीएमएल-एन ने पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो के बेटे बिलावट भुट्टों की अगुवाई वाले पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के साथ हाथ मिलाया है। सुनने में आ रहा है कि उनके साथ कुछ और छोटे दल व निर्दलीय उम्‍मीदवार भी हैं।
निर्दलियों ने इमरान पर धांधली का लगाया आरोप
गौरतलब है कि इमरान खान की पार्टी ने नेशनल असेंबली की 272 में से 116 सीटों पर चुनाव जीता है। कहा जा रहा है कि वह छोटे दलों और निर्दलियों से गठबंधन कर सरकार बनाने लायक बहुमत जुटा ही लेंगे। इस बीच गुरुवार को पीएमएल-एन और पीपीपी ने एक बार फिर आरोप लगाया कि पाक सेना ने 25 जुलाई को हुए चुनाव में हस्तक्षेप किया, जिसका फायदा इमरान खान की पार्टी को मिला है। हालांकि चुनाव आयोग ने किसी भी तरह की धांधली से इनकार किया है।
शपथ ग्रहण सादगी से होगा
इमरान खान 11 अगस्त को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं, लेकिन इस खास मौके पर आपको कोई भी विदेशी मेहमान नजर नहीं आएगा। इमरान खान ने डी-चौक या परेड ग्राउंड जैसी सार्वजनिक जगह पर शपथ ग्रहण करने का फैसला बदल दिया है। अब मेहमानों की लिस्ट में भी बदलाव कर दिया गया है। पीटीआइ प्रमुख ने अब फैसला किया है कि शपथ ग्रहण समारोह सादगी से होगा। समारोह में किसी भी राष्‍ट्राध्‍यक्ष या विदेशी अधिकारी को न्‍योता नहीं दिया गया है।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

अब दुरंतो एक्सप्रेस भी नहीं रहा सुर‌िक्षत, चाकू के बल पर यात्रियों से लूटपाट

नयी दिल्ली : दूरंतो एक्‍सप्रेस को सब्‍ासे तेज और सुर‌िक्षत ट्रेन के तौर पर माना जाता है इस ट्रेन को चलाने के पीछे यही उद्देश्‍य यहा कि आप इससे देश के एक हिस्‍से से दूसरे कोने तक आराम से यात्रा [Read more...]

अमित शाह की बिमारी पर कांग्रेस नेता बीके हरिप्रसाद के बिगड़े बोल

बेंगलुरु : भारतीय जनता पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह को स्‍वाइन फ्लू की वजह से इलाज के लिए एम्स में भर्ती कराया गया है। इसी बीच कर्नाटक में कांग्रेस-ज्‍ानता दल (एस) सरकार में जारी उठापटक तथा सरकार पर मंडरा [Read more...]

मुख्य समाचार

अब दुरंतो एक्सप्रेस भी नहीं रहा सुर‌िक्षत, चाकू के बल पर यात्रियों से लूटपाट

नयी दिल्ली : दूरंतो एक्‍सप्रेस को सब्‍ासे तेज और सुर‌िक्षत ट्रेन के तौर पर माना जाता है इस ट्रेन को चलाने के पीछे यही उद्देश्‍य यहा कि आप इससे देश के एक हिस्‍से से दूसरे कोने तक आराम से यात्रा [Read more...]

अमित शाह की बिमारी पर कांग्रेस नेता बीके हरिप्रसाद के बिगड़े बोल

बेंगलुरु : भारतीय जनता पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह को स्‍वाइन फ्लू की वजह से इलाज के लिए एम्स में भर्ती कराया गया है। इसी बीच कर्नाटक में कांग्रेस-ज्‍ानता दल (एस) सरकार में जारी उठापटक तथा सरकार पर मंडरा [Read more...]

ऊपर