आदिवासियों को रिझाने की कोशिश कर रहे राजनीतिक दल

रायपुरः इस साल के अंत में होने वाले छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावों में सत्तारूढ़ भाजपा चौथी बार सत्ता में आने तथा मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस अपना 15 वर्ष पुराना वनवास खत्म करने के लिए आदिवासी मतदाताओं को रिझाने की कोशिश कर रहे हैं।
दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों के चुनाव का पूरा तानाबाना राज्य में सत्ता की चाबी कहा जाने वाला आदिवासी वर्ग के आसपास बुना जा रहा है। आदिवासी मतदाताओं की सर्वाधिक आबादी एवं आरक्षित सीटें बस्तर तथा सरगुजा संभाग में है। इस कारण भाजपा और कांग्रेस संगठन का इन दोनों संभागों पर अधिक ध्यान है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, अमित शाह सहित कई नेता यहां का दौरा कर चुके हैं। कांग्रेसी नेताओं का भी इन्हीं संभागों पर ध्यान केंद्रित है। कांग्रेसध्यक्ष राहुल गांधी सरगुजा आ चुके हैं जबकि बस्तर में आने वाले हैं।
पिछड़ा वर्ग के नेताओं का दावा है कि वर्ष 2013 में इसी वर्ग के दम पर भाजपा सरकार बनी थी। पिछले चुनाव में जब आदिवासियों ने भाजपा का साथ छोड़ा तब मैदानी क्षेत्रों से ओबीसी ने ही भाजपा को गद्दी तक पहुंचाया।
राज्य में इन दोनों दलों की कमान ओबीसी वर्ग के हाथों में है। भाजपा राज्याध्यक्ष धरमलाल कौशिक एवं कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष भूपेश बघेल इसी वर्ग (कुर्मी) से हैं।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

एससी-एसटी एक्ट को लेकर सवर्णों को मनाने में जुटे चौहान

भोपाल: अनुसूचित जाति-जनजाति संशोधन अधिनियम पर केंद्र सरकार का फैसला अब भाजपा के गले की फांस बनता जा रहा है। इस एक्ट को लेकर नाराज सवर्णों को मनाने की कोशिश कर रहे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने [Read more...]

इंस्पेक्टर ने जन प्रतिनिधियों को दी जुबान काटने की धमकी

अमरावती: आंध्र प्रदेश के अनंतपुरम जिले में कादिरी के पुलिस इंस्पेक्टर माधव ने सत्तारूढ़ तेदेपा के एक सांसद पर निशाना साधते हुए धमकी दी कि अगर निर्वाचित प्रतिनिधि पुलिस बल का मनोबल गिराने की बात करेंगे तो उनकी जुबान काट [Read more...]

मुख्य समाचार

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह राजनीति नहीं देशभक्ति है : जावड़ेकर

नयी दिल्ली : विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक की सालगिरह पर विश्वविद्यालयों को जारी संवाद पर विवाद के मद्देनजर मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सफाई देते हुए कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं है, बल्कि यह देशभक्ति [Read more...]

ऊपर