अस्वास्थ्यकर पीली दाल के आयात पर लगे रोक : भतृहरि महताब

नयी दिल्ली : पीली दाल में स्वास्थ्य के लिए खतरनाक मिलावट करने का मामला सोमवार को लोकसभा में उठा और गरीबों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ नहीं किए जाने का सरकार से आग्रह किया गया।

भतृहरि महताब

बीजू जनता दल के सांसद भतृहरि महताब ने यह मामला शून्यकाल में उठाया और कहा कि गरीबों के इस भोजन के साथ मिलावट कर कालाबाजारी करने वाले देश के गरीबों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं और इसे रोकने लिए जरूरी कदम उठाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि यह दाल विदेशों से मंगायी जा रही है लेकिन इसमें नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है इसलिए स्वास्थ्य के लिए खतरनाक अवयवों का इसमें प्रयोग किया जा रहा है। उन्होंने दालों की आयात नीति पर सरकार से ध्यान देने का आग्रह किया और कहा कि वह मामले को गंभीरता से ले। उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने सदन को आश्वासन दिया कि वह इस शिकायत पर ध्यान देंगे और जरूरी कदम उठाएंगे। उन्होंने आश्वासन दिया वह इस मामले को देखेंगे और लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ नहीं होने दिया जाएगा।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

तीन महीने तक भारत नहीं आ सकता : चोकसी

मुंबई : पंजाब नेशनल बैंक में हुए घोटाले के मुख्य आरोपी मेहुल चोकसी ने कहा है कि वह तीन महीने तक भारत नहीं आ सकते हैं। आपको बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कोर्ट से चोकसी को भगोड़ा आर्थिक [Read more...]

14 करोड़ के चादर और कंबल चुरा ले गये एसी कोच के यात्री : रेलवे

नई दिल्ली : यात्रियों की गंदी हरकत से परेशान रेलवे एसी कोच में दी जाने वाली सुविधाओं में कमी करने का मन बना रहा है। दरअसल देशभर में रेलवे के एसी कोच से तौलिया, चादर और कंबल चोरी हो रहे [Read more...]

मुख्य समाचार

साईं के दरबार में शिल्पा ने चढ़ाया लाखों का मुकुट

मुंबई : दुनिया के अमीर भगवानों में गिने जाने वाले शिरडी के साईंबाबा के दरबार में दूर-दूर से लोग मुराद पूरी होने पर चढ़ावा चढ़ाने आते हैं। शुक्रवार को बॉलीवुड अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी भी बाबा के दरबार में पहुंची। उन्होंने [Read more...]

तीन महीने तक भारत नहीं आ सकता : चोकसी

मुंबई : पंजाब नेशनल बैंक में हुए घोटाले के मुख्य आरोपी मेहुल चोकसी ने कहा है कि वह तीन महीने तक भारत नहीं आ सकते हैं। आपको बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कोर्ट से चोकसी को भगोड़ा आर्थिक [Read more...]

ऊपर