मुजफ्फपुर बालिका गृह कांड में प्रशासन आया एक्‍शन में, 6 जिलों के सहायक निदेशकों को किया निलंबित

मुजफ्फपुरः मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले में एक के बाद एक सामने आ रहे खुलासे ने पूरे देश को हैरान करके रख दिया है। वहीं आखिरकार मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण कांड की गूंज प्रशासन तक को सुनाई दे ही गई। बालिका गृह केस में आरोपियों के खिलाफ आवाज बुलंद करने के बाद अब प्रशासन सख्त होता दिख रहा है। अब इस मामले में राज्य के 6 जिलों के अधिकारियों पर गाज गिरने की खबर है। राज्यपाल के आदेश पर भोजपुर, भागलपुर, मुंगेर, मुजफ्फपुर, अररिया और मधुबनी में बाल कल्याण संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक को निलंबित किया गया है। जिनमें अभी मधुबनी में बाल कल्याण संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक देवेश कुमार का नाम सामने आया है जिन्हें निलंबित कर दिया गया है। देवेश पर टीआईएसएस सामाजिक लेखा रिपोर्ट पर देरी से कार्रवाई करने के चलते उन्हें निलंबित किया गया। वहीं दूसरी तरफ बालिका कांड को नेता अब राजनीतिक रंग देना शुरू कर दिया है। मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में 40 बच्चियों से रेप मामले को लेकर कांग्रेस और राजद सहित तमाम विपक्षी पार्टियों ने केंद्र की एनडीए सरकार को घेरने, दबाव बनाने के लिए कल जंतर मंतर पर एकजुटता दिखाई थी। इस कांड के खिलाफ जंतर-मंतर पर राजद के विरोध प्रदर्शन में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी शामिल हुए थे। उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से दोषियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग की थी, वहीं तमाम विपक्ष ने केंद्र व बिहार सरकार पर दोषियों को बचाने का आरोप लगाया व जमकर प्रहार किया।
प्रदर्शन में सभी नेताओं हुए शामिल
इस प्रदर्शन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, राजद नेता तेजस्वी यादव व मीसा भारती, माकपा नेता सीताराम येचुरी, भाकपा के डी राजा और अतुल कुमार अंजान, लोकतांत्रिक जनता दल के शरद यादव तथा तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी जैसे प्रमुख नेता शामिल हुए। सभी नेताओं ने चेतावनी दी कि यदि दोषियों को तुरंत सजा नहीं दी गई तो जनता उनकी सरकार को उखाड़ फेंकेगी।
नेताओं ने दोषियों को फांसी की सजा का किया मांग
राहुल गांधी ने कहा कि नीतीश कुमार यदि सचमुच इस घटना से शर्मिंदा हैं तो उन्हें दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी होगी। भाजपा पर हमला करते हुए उन्होंने कहा, एक तरफ भाजपा-आएसएस है तो दूसरी तरफ पूरा देश। देश में अजीब माहौल बन गया है। महिलाओं, मजदूरों, आदिवासियों, अल्पसंख्यकों व कमजोरों पर आक्रमण हो रहे हैं। हम पूरे देश की महिलाओं के सम्मान के लिए आए हैं। इनके सम्मान के लिए हम एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे। लोगों को धमकाया दबाया जा रहा है। सभी ने एक सुर में दोषियों को फांसी की सजा की मांग की। उन्होंने पीड़ित बच्चियों के साथ खड़े होने का संदेश देने के लिए मोमबत्ती जलाकर एक मिनट का मौन रखा। इस मौके पर इंनेलोद के दुष्यंत चौटाला, आप के संजय सिंह और हिंदुस्तान अवाम पार्टी के जीतनराम मांझी भी मौजूद थे।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

चीनः 28 वर्षों में विकास दर में आई काफी कमी, अभी और गिरावट के आसार

बीजिंगः चीन की विकास दर में 1990 के बाद से अब तक सबसे अधिक कमी आई है। चीन की विकास दर 2018 में 6.6% रही, जो कि 28 साल में यह सबसे कम है। इससे पहले 1990 में चीन की [Read more...]

फ्रांस से 3000 एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल खरीदने की तैयारी कर रहा है भारत

नयी दिल्ली : फ्रांसीसी कंपनी से रक्षा सामग्री खरीद पर चल रहे विवाद को दरकिनार करते हुए भारत ने अपनी सुरक्षा प्रणाली को और मजबूत तथा विश्‍वस्‍तरीय बनाने तथा सेना को नये उपकरणों से लैस करने की खातिर फ्रांस से [Read more...]

मुख्य समाचार

आज मालदह में अमित शाह की सभा

कोलकाता : कई बार हां - ना के बीच आज यानी मंगलवार को मालदह में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह सभा को संबोधित करेंगे जहां से वह बंगाल में लोकसभा चुनाव प्रचार की शुरुआत करेंगे। आज सुबह [Read more...]

ममता में देश संभालने के सारे गुण – कुमारस्वामी

कोलकाता : कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने देश के लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रशासन से पूरी तरह ‘निराश’ बताते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तारीफ की है। ममता को ‘कुशल [Read more...]

ऊपर