मुजफ्फपुर बालिका गृह कांड में प्रशासन आया एक्‍शन में, 6 जिलों के सहायक निदेशकों को किया निलंबित

मुजफ्फपुरः मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले में एक के बाद एक सामने आ रहे खुलासे ने पूरे देश को हैरान करके रख दिया है। वहीं आखिरकार मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण कांड की गूंज प्रशासन तक को सुनाई दे ही गई। बालिका गृह केस में आरोपियों के खिलाफ आवाज बुलंद करने के बाद अब प्रशासन सख्त होता दिख रहा है। अब इस मामले में राज्य के 6 जिलों के अधिकारियों पर गाज गिरने की खबर है। राज्यपाल के आदेश पर भोजपुर, भागलपुर, मुंगेर, मुजफ्फपुर, अररिया और मधुबनी में बाल कल्याण संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक को निलंबित किया गया है। जिनमें अभी मधुबनी में बाल कल्याण संरक्षण इकाई के सहायक निदेशक देवेश कुमार का नाम सामने आया है जिन्हें निलंबित कर दिया गया है। देवेश पर टीआईएसएस सामाजिक लेखा रिपोर्ट पर देरी से कार्रवाई करने के चलते उन्हें निलंबित किया गया। वहीं दूसरी तरफ बालिका कांड को नेता अब राजनीतिक रंग देना शुरू कर दिया है। मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में 40 बच्चियों से रेप मामले को लेकर कांग्रेस और राजद सहित तमाम विपक्षी पार्टियों ने केंद्र की एनडीए सरकार को घेरने, दबाव बनाने के लिए कल जंतर मंतर पर एकजुटता दिखाई थी। इस कांड के खिलाफ जंतर-मंतर पर राजद के विरोध प्रदर्शन में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी शामिल हुए थे। उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से दोषियों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग की थी, वहीं तमाम विपक्ष ने केंद्र व बिहार सरकार पर दोषियों को बचाने का आरोप लगाया व जमकर प्रहार किया।
प्रदर्शन में सभी नेताओं हुए शामिल
इस प्रदर्शन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, राजद नेता तेजस्वी यादव व मीसा भारती, माकपा नेता सीताराम येचुरी, भाकपा के डी राजा और अतुल कुमार अंजान, लोकतांत्रिक जनता दल के शरद यादव तथा तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी जैसे प्रमुख नेता शामिल हुए। सभी नेताओं ने चेतावनी दी कि यदि दोषियों को तुरंत सजा नहीं दी गई तो जनता उनकी सरकार को उखाड़ फेंकेगी।
नेताओं ने दोषियों को फांसी की सजा का किया मांग
राहुल गांधी ने कहा कि नीतीश कुमार यदि सचमुच इस घटना से शर्मिंदा हैं तो उन्हें दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी होगी। भाजपा पर हमला करते हुए उन्होंने कहा, एक तरफ भाजपा-आएसएस है तो दूसरी तरफ पूरा देश। देश में अजीब माहौल बन गया है। महिलाओं, मजदूरों, आदिवासियों, अल्पसंख्यकों व कमजोरों पर आक्रमण हो रहे हैं। हम पूरे देश की महिलाओं के सम्मान के लिए आए हैं। इनके सम्मान के लिए हम एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे। लोगों को धमकाया दबाया जा रहा है। सभी ने एक सुर में दोषियों को फांसी की सजा की मांग की। उन्होंने पीड़ित बच्चियों के साथ खड़े होने का संदेश देने के लिए मोमबत्ती जलाकर एक मिनट का मौन रखा। इस मौके पर इंनेलोद के दुष्यंत चौटाला, आप के संजय सिंह और हिंदुस्तान अवाम पार्टी के जीतनराम मांझी भी मौजूद थे।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

सर्जिकल स्ट्राइक के हीरो कमांडो संदीप सिंह मुठभेड़ में शहीद

चंडीगढ़ : कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में एलओसी पर आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान सर्जिकल स्ट्राइक के वीरों में से एक कमांडो संदीप सिंह शहीद हो गए हैं। वह पंजाब के गुरदासपुर जिले के गांव कोटला खुर्द के रहने वाले [Read more...]

दागी नेताओं के चुनाव लड़ने पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

नयी दिल्‍ली : दागी नेताओं को चुनाव लड़ने से रोकने की याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ ने बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कहा है कि दागी विधायक, सांसद और नेता आरोप तय होने के बाद भी चुनाव [Read more...]

मुख्य समाचार

उत्तर भारत में तेज बारिश से 11 मरे, कई राज्यों में अलर्ट जारी

नई दिल्लीः उत्तर भारत के कई राज्यों में तेज बारिश का कहर अब भी जारी है। लगातार बारिश से उत्तर भारत के पहाड़ी राज्यों में अचानक बाढ़ और भूस्खलन के चलते जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और हरियाणा में कम से कम [Read more...]

‘दूरसंचार में पांच गुना बढ़ा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश’

नयी दिल्लीः दूरसंचार मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा है कि दूरसंचार क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) करीब पांच गुना बढ़ा है। गत वित्त वर्ष में यह 6.2 अरब डॉलर हो गया, जो 2015-16 में 1.3 अरब डॉलर था। नई [Read more...]

ऊपर