इस गांव में नाइटी पहनी तो भरना होगा जुर्माना

हैदराबाद : आंध्र प्रदेश के पश्चिम गोदावरी जिले के टोकलापल्‍ली गांव में महिलाओं ने पिछले नौ महीनों से दिन में नाईटी पहनना बंद कर दिया। इस अजीबों-गरीब फरमान के तहत महिलाएं सूर्र्याअस्त से पहले नाइटी नहीं पहन सकती हैं। अगर कोई महिला सूर्र्याअस्त से पहले नाइटी में दिखाई देती है तो उसे जुर्माना देना होगा। गांव के 9 बुजुर्गों की एक कमेटी ने आदेश दिया है कि नाइटी केवल रात में पहनने के लिए है इसलिए इसे दिन में न पहना जाए।
पहनने वाले पर 2 हजार जुर्माना, बताने वाले को इनाम –
इस कमेटी ने आदेश को लागू करवाने के लिए एक खास रणनी‍ति भी बनाई है जिसमें यह सुनिश्चित किया गया है कि गांव की 1800 महिलाओं में से कोई भी उनके आदेश का उल्लंघन न करे। अगर कोई महिला सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक नाइटी पहने हुए पाई जाती है तो उस पर 2 हजार रुपये जुर्माना लगाया जाएगा। वहीं अगर कोई महिला किसी महिला के दिन में नाइटी पहनने की सूचना देती है तो उसे 1 हजार रुपये का इनाम दिया जाएगा। अगर नाइटी पहनी हुई महिलाएं जुर्माना देने से मना करती हैं तो उसका सामाजिक बहिष्कार तक किया जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा है कि इसके बारे में सरकारी अधिकारियों को कुछ न बताया जाए। कमेटी का कहना है कि जुर्माने की राशि को गांव के विकास कामों में खर्च किया जाता है। इस फरमान के डर से गांव की महिलाओं ने दिन में नाइटी पहना छोड़ दिया है।
गांव की सरपंच फंतासिया महालक्ष्‍मी ने कहा कि नाइटी पहनकर खुले में कपड़े धोना, दुकान से सामान लाना और बैठक में शामिल होना अच्‍छा नहीं है। उन्‍होंने कहा कि कुछ महिलाओं ने इस पर बैन लगाने के लिए बुजुर्गों से अनुरोध किया था। उन्‍होंने इस बात से साफ इन्‍कार किया कि जुर्माना नहीं देने पर सामाजिक बहिष्‍कार की धमकी दी गई है।
महिलाओं ने कहा अफवाह है –
हालांकि गांव में महिलाओं के नाइटी पर प्रतिबंध का आदेश नौ महीने पहले जारी हुआ था। लेकिन गुरुवार को राजस्‍व अधिकारियों के गांव का दौरा करने के बाद इस मामले का खुलासा हुआ। ये अधिकारी एक जांच के सिलसिले में टोकलापल्‍ली गांव गए थे जब गांव का दौरा किया तो कुछ ग्रामीणों ने बताया कि बुजुर्गों ने धमकी दी है कि यदि दोषी महिला ने जुर्माने का भुगतान नहीं किया तो उसका सामाजिक बहिष्‍कार किया जाएगा। ग्रामीणों ने यह भी बताया कि उन्हें किसी भी सरकारी अधिकारी को यह बात न बताने की चेतावनी दी गई है। राजस्व विभाग के अधिकारीयों ने अनुुसार गांव की कोई भी महिला इस फैसले के विरोध में नहीं है। महिलाओं का कहना है कि ये अफवाह है। वे इस आदेश से काफी खुश हैं और हमने अपनी परंपराओं के पालन के लिए ये फैसला लिया है। बुजुर्गों ने नाईटी पहनने के लिए निश्चित समय तय किया है। लेकिन नियम न मानने पर किसी तरह का जुर्माना नहीं लगता।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

अल्पसंख्यको को आरएसएस से सतर्क रहने की जरूरत : कमलनाथ

भोपाल : मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ का एक विडियो वायरल हो गया है। इस वायरल विडियो में कमलनाथ अल्पसंख्यक प्रतिनिधिमंडल से कथित तौर पर कहते दिखाई दे रहे हैं कि चुनाव होने तक उन्हें सतर्क रहने की जरूरत [Read more...]

आतंकियों का चुनाव लड़ना चिंता का विषय : मोदी

सिंगापुर : पूर्वी एशिया सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि - दुनिया में कहीं भी आतंकी हमले होते हैं आखिर में उसकी जन्मस्‍थली एक ही होती है। प्रधानमंत्री ने यह बात अमेरिकी [Read more...]

मुख्य समाचार

अल्पसंख्यको को आरएसएस से सतर्क रहने की जरूरत : कमलनाथ

भोपाल : मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ का एक विडियो वायरल हो गया है। इस वायरल विडियो में कमलनाथ अल्पसंख्यक प्रतिनिधिमंडल से कथित तौर पर कहते दिखाई दे रहे हैं कि चुनाव होने तक उन्हें सतर्क रहने की जरूरत [Read more...]

आतंकियों का चुनाव लड़ना चिंता का विषय : मोदी

सिंगापुर : पूर्वी एशिया सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि - दुनिया में कहीं भी आतंकी हमले होते हैं आखिर में उसकी जन्मस्‍थली एक ही होती है। प्रधानमंत्री ने यह बात अमेरिकी [Read more...]

ऊपर