दिल का इलाज और हुआ सस्‍ता

नई दिल्लीः दिल के मरीजों का इलाज पहले के मुकाबले अब और भी सस्‍ता हो गया है। दवा मूल्य निर्धारण प्राधिकरण (एनपीपीए) ने कोरोनरी स्टेंट की कीमत को 85 फीसदी तक कम किए जाने के लगभग एक साल बाद आज इसकी अधिकतम कीमत में संशोधन किया। इसी के साथ दवा छोड़ने वाले स्टेंट की कीमत में भी बदलाव किया गया है।
ये हैं नई कीमतें
प्राधिकरण ने एक अधिसूचना में बताया कि धातु के बने कोरोनरी स्टेंट की कीमत को 7,400 रुपए से बढ़ाकर 7,660 रुपए किया गया है। वहीं ड्रग इलूटिंग और बायोडिग्रेडेबल और बायोरिसॉर्बेबिल कोरोनरी स्टेंट्स की अधिकतम कीमत घटाकर 27890 रुपए तय की है। इसमें जीएसटी शामिल नहीं है। इससे पहले ड्रग इलूटिंग स्‍टेंट (डीईएस) और बायोरिसॉर्बेबिल वस्क्युलर स्काफोल्ड (बीवीएस) का दाम 30180 रुपए था। प्राधिकरण के अनुसार बदली हुई कीमतें आज से प्रभावी होंगी और यह पुराने स्टॉक में पड़े स्टेंट पर भी लागू होंगी। उल्लेखनीय है कि कोरोनरी स्टेंट हृदय को खून पहुंचाने वाली धमनियों में वसा के जमाव को हटाकर जगह बनाने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।

Leave a Comment

अन्य समाचार

सीबीआई विवाद : कोई भी सुनवाई के लायक नहीं – चीफ जस्टीस

नई दिल्ली : सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान चीफ जस्टीस रंजन गोगोई गुस्सा हो गए। सीबीआई मामले से जुड़ी बातें मीडिया में लीक होने के कारण वे काफी नाराज हो गए और [Read more...]

चीन हमसे कुछ नहीं खरीदता : मालदीव

माले : मालदीव चीन के साथ किए गए फ्री ट्रेड समझौते से बाहर निकलेगा। इसका ऐलान मालदीव सत्ताधारी गठबंधन का नेतृत्व करने वाले मालदीवियन डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रमुख मोहम्मद नशीद ने कही। उन्होंने दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी इकॉनमी के [Read more...]

मुख्य समाचार

सीबीआई विवाद : कोई भी सुनवाई के लायक नहीं – चीफ जस्टीस

नई दिल्ली : सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान चीफ जस्टीस रंजन गोगोई गुस्सा हो गए। सीबीआई मामले से जुड़ी बातें मीडिया में लीक होने के कारण वे काफी नाराज हो गए और [Read more...]

अंग्रेजी माध्यम स्कूलों पर रखी जाएगी निगरानी – पार्थ

कोलकाता : सोमवार को विधानसभा में प्रश्नोत्तर काल के दौरान राज्य के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने ​कांग्रेस विधायक असित मित्रा के सवालों का जवाब देते हुए कहा ​कि राज्य के अंग्रेजी माध्यम स्कूलों पर निगरानी रखने के लिए राज्य [Read more...]

ऊपर