नेताजी की मौत के रहस्य से उठना चाहिए पर्दा : ममता

कोलकाता : नेताजी सुभाषचंद्र बोस की 121वीं जयंती के मौके पर श्रद्धा प्रकट करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि नेताजी देश के लीडर थे, राष्ट्रनायक थे। हर साल उनका जन्म दिवस मनाया जाता है मगर उनकी मौत कैसे हुई यह आज भी रहस्य बना हुआ है। मैंने उनकी मौत से जुड़ीं सभी फाइलें सार्वजनिक कर दिया है। अब केंद्र सरकार को नेताजी की मौत के रहस्य से पर्दा उठाने के लिए कदम उठाना चाहिए।

– मैंने मृत्यु से जुड़ीं फाइलें आम कीं, अब केंद्र की बारी है
– आजाद हिन्द वाहिनी के प्रति जतायी श्रद्धा
– कहा : नेताजी की जयंती स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के समान महत्वपूर्ण है
– जिस घर में नेताजी रुके थे, उसके नवीकरण के लिए राज्य ने दिये 10 लाख रुपये

नेता जी में किसी तरह की विभेदनीति नहीं थी। उनकी विचारधारा सूर्य के तेज के समान थी। आज भी बंगाल में उनका जन्मदिवस पूरी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 3 सालों से राज्य सरकार पहाड़ पर नेताजी का जन्म दिवस मनाती आ रही है। यह क्रम आगे भी बरकरार रहेगा। मुख्यमंत्री ने आजाद हिन्द वाहिनी के प्रति श्रद्धा जताते हुए कहा कि देश में योजना आयोग की भावना सबसे पहले नेताजी ने ही व्यक्त की थी। देश के प्रति नेताजी के मन में जो देशभक्ति की भावना थी, वह देश के सच्चे नेता में ही होती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस तरह देश में स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस का महत्व है, उसी तरह नेताजी जयंती का भी महत्व है।  मुख्यमंत्री ने पहाड़ से अपने लगाव को नेताजी से जोड़ते हुए कहा कि उन्हें भी दार्जिलिंग से काफी लगाव था। कर्सियांग के गिद्धापहाड़ में देशबंधु लाइब्रेरी है जहां 1936 के आसपास नेताजी अक्सर आते थे और समय बिताते थे। उन्होंने गिद्धापहाड़ स्थित देशबंधु लाइब्रेरी को दुरुस्त करने के लिए पर्यटन विभाग की ओर से 10 लाख रुपये देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज उनके सबसे बड़े विभेदमुक्त समाज की कल्पना को साकार करना चाहिए। राष्ट्रनायक के उस सपने को साकार कर हमें विकास का नया मानदंड स्थापित करना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस दिन मैं वादा करती हूं कि भेदभाव से ऊपर उठकर देश और जनहित के लिए काम करेंगे। आम जनता को साथ लेकर ही मैं राजनीति में आगे बढ़ी हूं और आगे भी बढ़ना चाहती हूं। कार्यक्रम में युवा कल्याण व खेल मंत्री अरूप विश्वास, पर्यटन राज्य मंत्री  इंद्रनील सेन, बाइचुंग भुटिया, दार्जिलिंग के विधायक अमर सिंह राई, राज्य के मुख्य सचिव बासुदेव बनर्जी, जलपाईगुड़ी के डिविजनल कमिश्नर वरुण राय, दार्जिलिंग के जिला शासक अनुराग श्रीवास्तव सहित विभिन्न बोर्डों के चेयरमैन और पदाधिकारी उपस्थित थे।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

‘धोनी रिव्यू सिस्टम’ ने फिर बनाया मुरीद

नयी दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने एक बार फिर से अपने फैसले से साबित कर दिया कि डीआरएस के मामले में उनसे सटीक कोई नहीं है। अगर वह इशारा कर दें तो मान लीजिए [Read more...]

रेवाड़ी गैंगरेपः 10 दिन बाद सेना के जवान समेत 2 आरोपी गिरफ्तार

नई दिल्लीः रेवाड़ी गैंगरेप मामले में 10 दिन से फरार चल रहे एक सेना का जवान समेत 2 आरोपी पकड़ लिए गए हैं। ये दोनों आरोपी इस दुष्कर्म कांड में शामिल थे। इनमें से गिरफ्तार पंकज आर्मी में तैनात है। [Read more...]

मुख्य समाचार

ब्रेकिंग न्यूजः काकद्वीप में निर्माणाधीन पुल ढहा

एक महीने में ब्रिज गिरने की तीसरी घटना काकद्वीपः दक्षिण 24 परगना : सोमवार की सुबह काकद्वीप में निर्माणाधीन पुल ढह गया। इस घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। इस घटना को लेकर डीएम वाई रत्नाकर ने [Read more...]

‘धोनी रिव्यू सिस्टम’ ने फिर बनाया मुरीद

नयी दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने एक बार फिर से अपने फैसले से साबित कर दिया कि डीआरएस के मामले में उनसे सटीक कोई नहीं है। अगर वह इशारा कर दें तो मान लीजिए [Read more...]

ऊपर