हैप्पी बर्थडे करण…!!

जुड़वा बच्चों के सिंगल फादर को हैप्पी बर्थडे

नई दिल्लीः ‘कुछ कुछ होता है’, ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’, ‘कभी खुशी कभी गम’ ,’स्टूडेंट ऑफ द ईयर’… जैसी फिल्मों में अपनी इमोशनल,रोमांटिक, कॉमेडी से दर्शकों का दिल छू जाने वाले मशहूर फिल्ममेकर करण जौहर आज अपना 46वां जन्मदिन मना रहे हैं। हमेशा से ही देखा गया है कि सफलता खुद करण के साथ ही चलती है। करण जौहर जिन्‍हें लोग केजो के नाम से भी जानते हैं, भारतीय फिल्‍म डायरेक्‍टर, निर्माता, स्‍क्रीनराइटर, कास्‍ट्यूम डिजाइनर के साथ ही बॉलीवुड जगत में अपने आप को हर किरदार में ढाल लेते हैं। आदित्य चोपड़ा की रोमांटिक फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ में बतौर सहायक निर्देशक अपने करियर की शुरुआत करने वाले करण जौहर आज बॉलीवुड के सबसे लोकप्रिय निर्माता निर्देशक, स्क्रिप्ट राइटर की श्रेणी में शामिल है।
उनसे जुड़े कुछ दिलचस्प बातें
– करण जौहर का जन्‍म मुंबई में हुआ था। उनके पिता का नाम यश जौहर है जो कि बॉलीवुड फिल्‍मों के निर्माता और धर्मा प्रोडक्‍शन्‍स के संस्‍थापक थे। उनकी मां का नाम हीरू जौहर है।
– करण ने मुंबई के ग्रीनलान्‍स हाई स्‍कूल और एचआर कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकनॉमिक्‍स से पढ़ाई की। उन्‍होंने फ्रेंच में मास्‍टर्स की डिग्री भी हासिल की है।
–  करण ने अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद 1989 में एक टीवी सीरियल ‘श्रीकांत’ से अपने करियर की शुरुआत की थी। ये सीरियल दूरदर्शन पर प्रसारित होता था। करण बचपन में बहुत मोटे थे और उनके पिता अक्सर उन्हें वजन कम करने कि हिदायत देते थे क्योंकि वे करण को एक्टर बनाना चाहते थे।
– करण का कुछ सालों तक अंकज्योतिष में ज्यादा रुझान था जिसकी वजह से वो अपनी फिल्मों का नाम ‘के (क)’ अक्षर से शुरू करते थे ,जैसे ‘कुछ कुछ होता है’, ‘कभी खुशी कभी गम’, ‘कल हो ना हो’ इत्यादि , लेकिन बाद में ‘लगे रहो मुन्नाभाई’ फिल्म देखने के बाद करण जौहर ने इस अंकज्योतिष से खुद को मुक्त किया।
– करण सरोगेसी के जरिए जुड़वां बच्चों के सिंगल पैरेंट बने हैं। जौहर को एक बेटा और एक बेटी हुई है। जिनका नाम उन्होंने यश और रूही रखा है। यह नाम करण की मां हीरू जौहर के उलट है। वहीं बेटे का नाम उन्होंने अपने पिता के नाम पर रखा है।
– निदेशक के तौर पर उन्होंने कुछ कुछ होता है, कभी खुशी कभी गम, कभी अलविदा ना कहना, माय नेम इज खान, स्‍टूडेंट ऑफ द ईयर, बॉम्‍बे टॉकीज जैसी फिल्में दी है।
– निर्माता के तौर पर उन्होंने कल हो ना हो, काल, कभी अलविदा ना कहना, दोस्‍ताना, कुर्बान, वेक अप सिड, माय नेम इज खान, आई हेट लव स्‍टोरीज, वी आर फैमिली, अग्निपथ, एक मैं और एक तू, स्‍टूडेंट ऑफ द ईयर, गिप्‍पी, ये जवानी है दीवानी, गोरी तेरे प्‍यार में, हंसी तो फंसी, 2 स्‍टेट्स, हंपटी शर्मा की दुल्‍‍हनिया, उंगली जैसी फिल्में दी है।
– लेखक के तौर पर उन्होंने कुछ कुछ होता है, कभी खुशी कभी गम, कल हो ना हो, कभी अलविदा ना कहना, माय नेम इज खान, स्‍टूडेंट ऑफ द ईयर, बॉम्‍बे टॉकीज जैसे फिल्में दी है।
– करण जौहर ने ‘एन अनसूटेबल ब्वॉय’ नामक बायोग्राफी भी रिलीज की है।
– करण जौहर जितने अपने काम के लिए सुर्खियों में रहते हैं, उससे ज्यादा विवादों की वजह से भी ये चर्चा में बने रहते हैं। एआईबी रोस्ट नाम के यूट्यूब शो में उन्होंने हिस्सा लिया और हजारों की भीड़ में अभद्र शब्दों का प्रयोग किया। यह शो तो मनोरंजन के लिए ही आयोजित हुआ था लेकिन बाद में कई संगठनों ने इसे लेकर करण जौहर का जमकर विरोध किया। ऐसे ही कई मुद्दों के चलते ये हमेशा चर्चा में रहे हैं।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

आतंकियों ने 3 पुलिसकर्मियों को अगवा कर की हत्या

श्रीनगरः पाक फौज द्वारा बीएसएफ जवान की बर्बर हत्या के बाद जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने शुक्रवार तड़के शोपियां जिले में 3 पुलिसकर्मियों को अगवा कर उनकी हत्या कर दी। पुलिसकर्मियों के तलाशी अभियान के दौरान तीनों शव कापरन गांव से [Read more...]

राहुल गांधी ने रक्षामंत्री को राफेल मिनिस्टर कहा, इस्‍तीफा मांगा

नयी दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण पर राफेल डील को लेकर एक बार फिर से हमला बोला है। राहुल गांधी ने राफेल विमान सौदे का ठेका सरकारी उपक्रम हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को नहीं दिए [Read more...]

मुख्य समाचार

आतंकियों ने 3 पुलिसकर्मियों को अगवा कर की हत्या

श्रीनगरः पाक फौज द्वारा बीएसएफ जवान की बर्बर हत्या के बाद जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने शुक्रवार तड़के शोपियां जिले में 3 पुलिसकर्मियों को अगवा कर उनकी हत्या कर दी। पुलिसकर्मियों के तलाशी अभियान के दौरान तीनों शव कापरन गांव से [Read more...]

बड़ी डरावनी लग रही है बागड़ी मार्केट की खामोशी

  कोलकाता : सबसे बड़े थोक मार्केट के नाम से एशिया में मशहूर था बागड़ी मार्केट। हजारों लोगों का आना-जाना दिन भर लगा रहता था। होता था करोड़ों का कारोबार। आज यहां छायी है विरानगी। पुलिस और दमकल कर्मियों की आवाजाही [Read more...]

ऊपर