हंसी के बेताज बादशाह चार्ली चैपलिन को नमन

मुंबईः अंग्रेजी के हास्य कलाकार और फिल्मों में अभिनय करने वाले चार्ली चैपलिन का आज 129वां जन्मदिवस है। पूरी दुनिया को हंसाने वाले चार्ली का जीवन बेहद ही दुख भरा रहा है। लेकिन सभी कठिनाईयों को दूर कर उन्होंने अपने जीवन में हंसी के दरवाजे खोले। चार्ली चैपलिन का जन्म 16 अपैल 1889 को लंदन में हुआ। उनका परिवार बेहद गरीब था। चार्ली जब 9 साल के थे तब से उन्होंने अपना पेट पालने के लिए काम करना पड़ा। पिता शराबी थे और मां की हालत ठीक नही थी। जिसके चलते उनकी मां को पागलखाने में भर्ती किया गया।
छोटे पर्दे से की शुरुआत
चार्ली ने अपनी शुरुआत छोटे पर्दे से की। अपनी स्टेज करियर की शुरुआत से ही उन्होंने लोगों को हंसाना शुरु कर दिया था। 19 साल की उम्र में एक अमेरिकन कंपनी ने उन्हें साइन कर लिया और वह अमेरिका चले गए। वहां चार्ली की मेहनत जारी रही और 1918 तक आते-आते वह दुनिया में अपनी अलग छाप छोड़ चुके थे। लोगों के दिलों में चार्ली अपनी अलग पहचान बना चुके थे। चार्ली चैपलिन जब अपना करियर बना रहे थे तब उन्होंने पहले विश्व युद्ध को देखा। लेकिन उन्होंने उस घड़ी में भी लोगों को हंसाना कम नही किया। वे अपना काम कर रहे थे।
मेरी हंसी कभी भी किसी के दर्द की वजह नही होनी चाहिए
चार्ली ने अपने करियर में दोनों विश्व युद्धों को देखा है। चार्ली चैपलिन ने कहा कि ‘मेरा दर्द किसी के हंसने की वजह हो सकता है पर मेरी हंसी कभी भी किसी के दर्द की वजह नही होनी चाहिए’।
महान हस्तियां भी थी उनकी फैन
भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से लेकर मशहूर साइंटिस्ट अल्बर्ट आइंस्टीन, ब्रिटेन की महारानी तक सभी चार्ली चैपलिन के प्रशंसक थे। बॉलीवुड में भी चार्ली के किरदार को निभाया गया है। हम कई फिल्मों में देख सकते है जहां उनके किरदार को कई महान कलाकारों ने निभाया है।


उनके खास वाक्य
– अगर आप जमीन पर देखेंगे तो कभी इंद्रधनुष नहीं देख पाएंगे।
– इस अजीबोगरीब दुनिया में कुछ स्थायी नहीं है, यहां तक कि परेशानियां भी।
– असफलता बहुत ही गैरजरूरी चीज है। इसके लिए खुद को मूर्ख बनाने की हिम्मत की दरकार होती है।
– मुझे बारिश में चलना पसंद है क्योंकि उसमें कोई भी मेरे आंसू नहीं देख सकता।
– हम सोचते बहुत ज्यादा हैं लेकिन महसूस बहुत कम करते हैं।
– पास से देखने पर जिंदगी ट्रेजडी लगती है और दूर से देखने पर कॉमेडी।
– आदमी का असली चेहरा तब दिखता है जब वह नशे में होता है।
– अगर लोग आपको अकेला छोड़ दें तो जिंदगी खूबसूरत हो सकती है।
– मुझे कॉमेडी करने के लिए सिर्फ पार्क, पुलिसकर्मी और एक खूबसूरत लड़की की जरूरत है।
– ईश्वर के साथ मैं बहुत शांति के साथ हूं। मेरा संघर्ष तो इंसानों से हैं।

Leave a Comment

अन्य समाचार

मीडिया पर भी गुंडई

कोलकाता : सोमवार को नामांकन के अंतिम दिन राज्य के विभिन्न जिलों में हिंसक घटनाएं तो हुई ही, साथ ही चौथे स्तंभ यानी मीडिया को भी नहीं बख्शा गया। राज्य में मीडिया पर भी हमले हुए। जिलों में तो हमले [Read more...]

गिरिजा देवी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता: राज्यपाल

कोलकाता : बनारस घराने की अंतिम दीपशिखा के रूप में पद्म विभूषण गिरिजा देवी भले ही आज मौन हो गईं, लेकिन उनका संगीत लोगों के जहन में युगों-युगों तक रहेगा। भले ही वह मौन हो गई हों लेकिन उनकी ठुमरी, [Read more...]

मुख्य समाचार

मीडिया पर भी गुंडई

कोलकाता : सोमवार को नामांकन के अंतिम दिन राज्य के विभिन्न जिलों में हिंसक घटनाएं तो हुई ही, साथ ही चौथे स्तंभ यानी मीडिया को भी नहीं बख्शा गया। राज्य में मीडिया पर भी हमले हुए। जिलों में तो हमले [Read more...]

गिरिजा देवी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता: राज्यपाल

कोलकाता : बनारस घराने की अंतिम दीपशिखा के रूप में पद्म विभूषण गिरिजा देवी भले ही आज मौन हो गईं, लेकिन उनका संगीत लोगों के जहन में युगों-युगों तक रहेगा। भले ही वह मौन हो गई हों लेकिन उनकी ठुमरी, [Read more...]

उपर