हंसी के बेताज बादशाह चार्ली चैपलिन को नमन

मुंबईः अंग्रेजी के हास्य कलाकार और फिल्मों में अभिनय करने वाले चार्ली चैपलिन का आज 129वां जन्मदिवस है। पूरी दुनिया को हंसाने वाले चार्ली का जीवन बेहद ही दुख भरा रहा है। लेकिन सभी कठिनाईयों को दूर कर उन्होंने अपने जीवन में हंसी के दरवाजे खोले। चार्ली चैपलिन का जन्म 16 अपैल 1889 को लंदन में हुआ। उनका परिवार बेहद गरीब था। चार्ली जब 9 साल के थे तब से उन्होंने अपना पेट पालने के लिए काम करना पड़ा। पिता शराबी थे और मां की हालत ठीक नही थी। जिसके चलते उनकी मां को पागलखाने में भर्ती किया गया।
छोटे पर्दे से की शुरुआत
चार्ली ने अपनी शुरुआत छोटे पर्दे से की। अपनी स्टेज करियर की शुरुआत से ही उन्होंने लोगों को हंसाना शुरु कर दिया था। 19 साल की उम्र में एक अमेरिकन कंपनी ने उन्हें साइन कर लिया और वह अमेरिका चले गए। वहां चार्ली की मेहनत जारी रही और 1918 तक आते-आते वह दुनिया में अपनी अलग छाप छोड़ चुके थे। लोगों के दिलों में चार्ली अपनी अलग पहचान बना चुके थे। चार्ली चैपलिन जब अपना करियर बना रहे थे तब उन्होंने पहले विश्व युद्ध को देखा। लेकिन उन्होंने उस घड़ी में भी लोगों को हंसाना कम नही किया। वे अपना काम कर रहे थे।
मेरी हंसी कभी भी किसी के दर्द की वजह नही होनी चाहिए
चार्ली ने अपने करियर में दोनों विश्व युद्धों को देखा है। चार्ली चैपलिन ने कहा कि ‘मेरा दर्द किसी के हंसने की वजह हो सकता है पर मेरी हंसी कभी भी किसी के दर्द की वजह नही होनी चाहिए’।
महान हस्तियां भी थी उनकी फैन
भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से लेकर मशहूर साइंटिस्ट अल्बर्ट आइंस्टीन, ब्रिटेन की महारानी तक सभी चार्ली चैपलिन के प्रशंसक थे। बॉलीवुड में भी चार्ली के किरदार को निभाया गया है। हम कई फिल्मों में देख सकते है जहां उनके किरदार को कई महान कलाकारों ने निभाया है।


उनके खास वाक्य
– अगर आप जमीन पर देखेंगे तो कभी इंद्रधनुष नहीं देख पाएंगे।
– इस अजीबोगरीब दुनिया में कुछ स्थायी नहीं है, यहां तक कि परेशानियां भी।
– असफलता बहुत ही गैरजरूरी चीज है। इसके लिए खुद को मूर्ख बनाने की हिम्मत की दरकार होती है।
– मुझे बारिश में चलना पसंद है क्योंकि उसमें कोई भी मेरे आंसू नहीं देख सकता।
– हम सोचते बहुत ज्यादा हैं लेकिन महसूस बहुत कम करते हैं।
– पास से देखने पर जिंदगी ट्रेजडी लगती है और दूर से देखने पर कॉमेडी।
– आदमी का असली चेहरा तब दिखता है जब वह नशे में होता है।
– अगर लोग आपको अकेला छोड़ दें तो जिंदगी खूबसूरत हो सकती है।
– मुझे कॉमेडी करने के लिए सिर्फ पार्क, पुलिसकर्मी और एक खूबसूरत लड़की की जरूरत है।
– ईश्वर के साथ मैं बहुत शांति के साथ हूं। मेरा संघर्ष तो इंसानों से हैं।

Leave a Comment

अन्य समाचार

…तो गूगल पर ‘इडियट’ लिखने पर ट्रंप और ‘पप्पू’ लिखने पर राहुल का फोटो इसलिए आता है

वाशिंगटनः जिस प्रकार गूगल पर पप्पू का नाम लिखने पर राहुल गांधी और फेंकू का नाम लिखने पर प्रधानमंत्री मोदी और इडियट लिखने पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप का  नाम सामने आता है। गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने इसके पीछे [Read more...]

मंगेतर को बोला- बेवकूफ, गया सलाखों के पीछे

नई दिल्लीः अबु धाबी में एक शख्स को व्हाट्सएप के माध्यम से अपनी पत्नी से मजाक करना महंगा पड़ गया और उसे जेल जाना पड़ा। उसने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उसका एक मजाक उस पर इतना [Read more...]

मुख्य समाचार

अमेरिका, जापान, बिट्रेन के बाद ताइवान ने भी चीनी कंपनी हुवावे और जेडटीई पर लगाया प्रतिबंध

ताइपे : अपने नागरिकों के सुरक्षा चिंताओं को ध्यान में रखते हुए ताइवान ने चीनी कंपनी हुवावे और जेडटीई के नेटवर्क उपकरणों पर प्रतिबंध लगा दिया है। यह 170 देशों में कारोबार करने वाली चीनी दूरसंचार उपकरण कंपनी के लिए [Read more...]

2.0 के बाद रजनीकांत का नया धमाका पेटा

नयी दिल्ली : सुपरस्टार रजनीकांत आज यानी बुधवार को 68वां जन्मदिन मना रहे हैं। इस मौके पर थलाइवा के सम्मान में उनकी अागामी फिल्म पेटा का टीजर रिलीज किया गया। इस फिल्म में रजनीकांत एक बार फिर गैंगस्टर की भूमिका [Read more...]

ऊपर