सीएसआर कंपन‌ियों को समाज से जोड़ता हैः प्रभु

नयी दिल्लीः सामाजिक जवाबदेही (सीएसआर) के तहत कंपनियों को अपने मुनाफे का दो प्रतिशत सामाजिक दायित्व पर खर्च करना होता है, यह एक बेहतरीन कानूनी प्रावधान है और यह कंपनियों को समाज से जोड़ने का काम करता है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने यह बात कही। कंपनी कानून 2013 के तहत एक निश्चित श्रेणी में आने वाली लाभ कमा रही कंपनियों को अपने तीन साल के औसतन शुद्ध लाभ का कम-से-कम दो प्रतिशत सीएसआर के तहत खर्च करना होता है। उन्होंने कहा कि भारत संभवतः एकमात्र देश है जहां इस प्रकार की कानूनी व्यवस्था रखी गई है। ‘सीएसआर के जरिये भारत में रूपांतरण के लिये वैज्ञानिक हस्तक्षेप’ विषय पर एक कार्यक्रम में प्रभु ने कहा कि जो कंपनियां सीएसआर गतिविधियों में दो प्रतिशत खर्च कर रही हैं वह उद्योग की बेहतर साख बनातीं हैं। अगर कोई कंपनी समाज का भरोसा हासिल नहीं करती है तो वह बेहतर कारोबार नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि कंपनियों के लिये सामाजिक विकास की गतिविधियों में जुड़ना एक चुनौती है। वित्त वर्ष 2016-17 में 6,286 कंपनियों ने  सीएसआर गतिविधियों पर 4,719 करोड़ रुपये खर्च किये।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

फॉक्सवैगन को एनजीटी की फटकार, निदेशकों को जेल भेजने की चेतावनी

नई दिल्लीः राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने अपने आदेश की अवहेलना करने के लिए जर्मनी की ऑटो क्षेत्र की प्रमुख कंपनी फॉक्सवैगन को कड़ी फटकार लगायी है। एनजीटी ने 16 नवंबर 2018 के उसके आदेश के अनुसार [Read more...]

चीन का अमेरिका के साथ व्यापार अधिशेष बढ़ा

शुल्क युद्ध से घटा आयात-निर्यात बीजिंगः चीन का अमेरिका के साथ व्यापार अधिशेष 2018 में बढ़ा है। लेकिन आयात और निर्यात में दिसंबर में गिरावट आयी है। इसकी वजह दोनों देशों के बीच लंबे समय से व्यापार संबंधी तनाव बना [Read more...]

मुख्य समाचार

आस्ट्रेलिया ओपन : जोकोविच और सेरेना प्री क्वार्टर फाइनल में पहुंचे

मेलबर्न : सेरेना विलियम्स ने यूक्रेन की दयाना यास्त्रेमस्का को टेनिस का सबक सिखा यहां आस्ट्रेलियाई ओपन महिला एकल के अंतिम-16 में जगह बनायी, सेरना ने यास्त्रेमस्का को 6-2, 6-1 से हराया। उनका अगला मुकाबला विश्व में नंबर एक [Read more...]

सौंदर्य उद्योग में बढ़ी मांग, पाकिस्‍तान ने चीन को 1 लाख किलो मानव बाल बेचे

इस्लामाबाद : चीन में जिस गति से सौन्‍दर्य प्रसाधान उद्योग बढ़ रहे है उससे लगता है कि बहुत जल्‍द वो इस क्षेत्र में सबसे बड़ा बाजार बन जायेगा। तथा पूरे विश्‍व को प्रसाधन उत्‍पादों का निर्यात करेगा। इसी के मद्देनजर [Read more...]

ऊपर