‘भारत के साथ रक्षा सहयोग में हाथ बटाना चाहता है अमेरिका’

कोलकाताः कलकत्ता चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास के क्रेग एल हॉल ने मंगलवार को कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका भारत के साथ रक्षा सहयोग पर उत्सुक है और यह देश को सिर्फ ग्राहक के रूप में नहीं देखना चाहता है। इसके लिए भारत सरकार से बातचीत की जा रही है। हमारा लक्ष्य आपसी रक्षा भागीदारी पैदा करना है। इसके लिए हमें अधिक रक्षा उपकरणों का उत्पादन करने की जरूरत है। इस मौके पर कलकत्ता चैंबर के अध्यक्ष राजेंद्र खंडेलवाल ने स्वागत भाषण दिया और भारत-अमेरिका के व्यापारिक रिश्तों पर प्रकाश डाला।

उन्होंने बताया कि 2016 में भारत यूएस का नौंवा सबसे बड़ा ट्रेडिंग पार्टनर था। इसके अलावा दोनों देश कैसे बढ़ोत्तरी कर सकते हैं इस पर विचार-विमर्श करने के साथ विभिन्न सेवाओं, सांस्कृतिक और शांतिपूर्ण उपयोग समझौते जैसे कई क्षेत्रों पर चर्चा की गई। इस मौके पर कलकत्ता चैंबर के वरिष्ठ उपाध्यक्ष ओमप्रकाश अग्रवाल, उपाध्यक्ष विनीत नाहटा सहित कई हस्तियां मौजूद थीं।

Leave a Comment

अन्य समाचार

अफगानिस्तान-भारत-अमेरिका चैम्बर आफ कामर्स बनाएंः अब्दाली

नयी दिल्लीः आपसी व्यापार को बढावा देने के लिए अफगानिस्तान, भारत और अमेरिका के बीच अफगानिस्तान के राजदूत शैदा मोहम्मद अब्दाली ने त्रिपक्षीय चैम्बर ऑफ कॉमर्स का गठन करने पर जोर दिया है। अफगानिस्तान के मेवों और कृषि उत्पादों की [Read more...]

रूस को डालर मिले नहीं स्वीकार कर सकताः ट्रंप

वाशिंगटनः जर्मनी - रूस पाइपलाइन गैस समझौते और ऊर्जा जरुरतों के लिए यूरोपीय देशों के रूस की गैस पर अधिक निर्भर रहने की अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कड़ी आलोचना की। नाटो की उपयोगिता पर भी सवाल खड़ा करते हुए [Read more...]

मुख्य समाचार

अफगान में आत्मघाती हमला, 7 मरे, 15 जख्मी

काबुलः अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में रविवार की शाम शाम करीब 4.30 बजे ग्रामीण पुनर्वास और विकास मंत्रालय के गेट के बाहर एक हमलावर ने खुद को विस्फोटक से उड़ा लिया। इस आत्मघाती हमले में आम लोग एवं सुरक्षाकर्मी समेत [Read more...]

भगवान जगन्नाथ का रथ गुंडिचा मंदिर पहुंचा

पुरीः भगवान जगन्नाथ का ‘नंदीघोष’ रथ रविवार को गुंडिचा मंदिर पहुंच गया। रथ यात्रा के दौरान शनिवार को बालागंडी चक पर इस रथ को रोकना पड़ा और उस दिन रथयात्रा पूरी नहीं हुई क्योंकि सूर्यास्त के बाद रथों को नहीं [Read more...]

ऊपर