5 हजार करोड़ रुपये के बैंक फ्रॉड मामले में फरार गुजराती परिवार के नाइजीरिया में होने की आशंका

नई दिल्लीः भारत में बैंक फ्रॉड मामले में फार्मा कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक का मालिक नितिन जयंतीलाल संदेसरा और उसका परिवार अब यूएई से फरार हो गया है। 5383 करोड़ रुपये के इस घोटाले मामले में सीबीआई और ईडी को उसकी तलाश है। उसे एक माह पूर्व हिरासत में ‌लिया गया था, लेकिन अब उसके नाईजीरिया में होने की आशंका जताई गई है। बता दें कि नाइजीरिया के साथ भारत की प्रत्यर्पण संधि नहीं है।

नाईजीरिया में भी संदेसरा की कंपनियां
बैंकों से धोखाधड़ी के मामले की जांच कर रहे अधिकारी के मुताबिक यूके और नाइजीरिया में संदेसरा की कंपनियां हैं। ऐसे में हो सकता है कि वह इन्हीं में से किसी देश में हो।
यूएई ने भारत की अपील पर ध्यान नहीं दिया
सीबीआई ने यूएई की एजेंसियों को नितिन के खिलाफ मामले की जानकारी देते हुए उसकी गिरफ्तारी की अपील की थी। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने विदेश मंत्रालय को प्रत्यर्पण की मांग भेजी थी। संदेसरा को यूएई में किसी स्थानीय मामले में हिरासत में लिया गया था। भारत से जुड़े मामले में कार्रवाई नहीं हुई थी। इस बात की जानकारी नहीं मिल पाई कि यूएई ने भारत की अपील पर ध्यान क्यों नहीं दिया।

अक्टूबर 2017 से हैं फरार
नितिन और उसके भाई चेतन जयंतीलाल संदेसरा वडोदरा की कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक के डायरेक्टर हैं। कंपनी ने बैंकों से 5,383 करोड़ रुपए का लोन लिया। बाद में यह कर्ज एनपीए में बदल गया। आंध्रा बैंक के नेतृत्व वाले बैंकों के कंसोर्शियम ने स्टर्लिंग बायोटेक को लोन दिया था। इस मामले में नेताओं और बड़े अफसरों की मिलीभगत की बात भी सामने आई थी। सीबीआई ने अक्टूबर 2017 में संदेसरा ब्रदर्स के खिलाफ केस दर्ज किया था। दोनों तभी से फरार हैं। प्रवर्तन निदेशालय इनके खिलाफ मनी लॉन्डरिंग की जांच भी कर रहा है।

रिकॉड में हेर-फेर किया था
सीबीआई ने नितिन के परिवार की सदस्य दीप्ति संसेदरा समेत अन्य लोगों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया था। इनमें स्टर्लिंग बायोटेक के डायरेक्टर राजभूषण ओमप्रकाश दीक्षित, विलास जोशी, चार्टर्ड अकाउंटेंट हेमंत और आंध्रा बैंक के पूर्व निदेशक अनूप गर्ग शामिल हैं। दीक्षित और गर्ग को ईडी ने जून में गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में दिल्ली के कारोबारी गगन धवन की भी गिरफ्ताई हुई। स्टर्लिंग बायोटेक की 4,700 करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति भी अटैच कर दी गई। सीबीआई की एफआईआर के मुताबिक ज्यादा से ज्यादा लोन लेने के लिए स्टर्लिंग बायोटेक के निदेशकों ने कंपनी के रिकॉर्ड में हेर-फेर किया। फर्जी दस्तावेज तैयार कर बैलेंस शीट में गड़बड़ियां भी की थी।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह का इस्तीफा

रायपुरः छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने गत 15 वर्षों से सत्ता पर काबिज भारतीय जनता दल पार्टी को करारी शिकस्त दी है। रुझानों और नतीजों में कांग्रेस को यहां दो तिहाई बहुमत मिलता नजर आ रहा है। इस बीच राज्य के [Read more...]

शक्तिकांत दास बने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के नए गवर्नर

नई दिल्लीः उर्जित पटेल के इस्तीफे के बाद भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को उसका नया गवर्नर मिल गया है। वित्त आयोग के सदस्य शक्तिकांत दास को आरबीआई का 25वां गवर्नर बनाया गया है। रिजर्व बैंक के गवर्नर के पद पर [Read more...]

मुख्य समाचार

अब भाजपा सरकार की विदाई तय – ममता

नयी दिल्ली : भाजपा सरकार की विदाई का घंटा बज चुका है। काउंट डाउन शुरू है। 2019 के लिए द गेम इज क्लियर, जनता का मूड सामने आ चुका है। केवल कुछ समय का इंतजार है। यह कहना है बंगाल [Read more...]

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह का इस्तीफा

रायपुरः छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने गत 15 वर्षों से सत्ता पर काबिज भारतीय जनता दल पार्टी को करारी शिकस्त दी है। रुझानों और नतीजों में कांग्रेस को यहां दो तिहाई बहुमत मिलता नजर आ रहा है। इस बीच राज्य के [Read more...]

ऊपर