फॉर्चुन 500 कंपनियों में भारत की चार सरकारी कंपनियां भी

न्यूयार्कः फाॅर्चुन 500 कंपनियों में भारत की सात कंपनियां जगह बनाने में कामयाब रही हैं। विशेष बात यह है कि इनमें चार कंपनियां सरकारी हैं। बिजनेस जगत की प्रत‌िष्ठित मैगजीन फॉर्चुन की इस सूची में रिटेल क्षेत्र की वालमार्ट 4,82,130 मिलियन डालर राजस्व के साथ दुनिया की जहां सबसे बड़ी कंपनी बनी, वहीं सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी इंडियन आयल कार्पोरेशन लिमिटेड को भारतीय कंपनियों में सबसे ऊंचा 161वां स्‍थान मिला। सार्वजनिक क्षेत्र की एक और कंपनी ओएनजीसी को इस बार लिस्ट में जगह नहीं मिली। निजी क्षेत्र की ज्वेलरी निर्यातक कंपनी राजेश एक्सपोर्ट ने पहली बार इस सूची में जगह बनाते हुए 423वां स्‍थान प्राप्त किया।
भारत की जिन कंपनियों ने इस सूची में जगह बनाई है उनमें चार सार्वजनिक क्षेत्र की और तीन निजी क्षेत्र की कंपनियां हैं। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन, कुल राजस्व 54.7 करोड़ डालर के साथ अपने पुराने रैंकिंग 119वें पायदान से गिरकर 161वां पायदान पर फिसल गई। भारत पेट्रोलियम कार्पोरेशन 280 पायदान से फिसलकर 358वें पायदान पर और हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कार्पोरेशन 327वें स्‍थान से खिसक कर 367वें नंबर पर जा पहुंची। सरकारी कंपनियों में इस बार एसबीआई ने अपने रैंकिंग में सुधार करते हुए 260वें स्‍थान से ऊपर उठकर 232वां स्‍थान पर कब्जा किया।
निजी क्षेत्र की कंपनियों में सबसे ऊपर 215वें पायदान पर रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड जगह बनाने में कामयाब रही। हालांकि पत्रिका की पुरानी सूची में कंपनी को 158वां स्‍थान मिला था। टाटा मोटर्स इस सूची में 254वें नंबर से सुधरकर 226वें नंबर पर आ गई।
दुनिया की दस बड़ी कंपनियां-
कंपनी – राजस्व (मिलियन डॉलर)
1.वालमार्ट-482130
2.स्‍टेट ग्रीड-329601
3.नेशनल पेट्रोलयम-299271
4.सीनोपेक ग्रुप-294344
5.रायल डच शेल-272156
6.इक्षोन मोबील-246204
7.वोल्‍क्सवेगन-236600
8.टो्यटा मोटर-236592
9.ऐपल-233715
10.बीपी-225982
2015 में विश्व की इन बड़ी 500 कंपनियों ने 27.6 खरब डालर का राजस्व और 1.5 ख्‍ारब डालर का मुनाफा कमाया था। फॉर्चुन के अनुसार इन कंपनियों की उपस्थिति 33 देशों में है और इनमें 6.7 करोड़ कर्मचारी काम करते हैं।

Leave a Comment

अन्य समाचार

मीडिया पर भी गुंडई

कोलकाता : सोमवार को नामांकन के अंतिम दिन राज्य के विभिन्न जिलों में हिंसक घटनाएं तो हुई ही, साथ ही चौथे स्तंभ यानी मीडिया को भी नहीं बख्शा गया। राज्य में मीडिया पर भी हमले हुए। जिलों में तो हमले [Read more...]

गिरिजा देवी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता: राज्यपाल

कोलकाता : बनारस घराने की अंतिम दीपशिखा के रूप में पद्म विभूषण गिरिजा देवी भले ही आज मौन हो गईं, लेकिन उनका संगीत लोगों के जहन में युगों-युगों तक रहेगा। भले ही वह मौन हो गई हों लेकिन उनकी ठुमरी, [Read more...]

मुख्य समाचार

मीडिया पर भी गुंडई

कोलकाता : सोमवार को नामांकन के अंतिम दिन राज्य के विभिन्न जिलों में हिंसक घटनाएं तो हुई ही, साथ ही चौथे स्तंभ यानी मीडिया को भी नहीं बख्शा गया। राज्य में मीडिया पर भी हमले हुए। जिलों में तो हमले [Read more...]

गिरिजा देवी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता: राज्यपाल

कोलकाता : बनारस घराने की अंतिम दीपशिखा के रूप में पद्म विभूषण गिरिजा देवी भले ही आज मौन हो गईं, लेकिन उनका संगीत लोगों के जहन में युगों-युगों तक रहेगा। भले ही वह मौन हो गई हों लेकिन उनकी ठुमरी, [Read more...]

उपर