न्यूनतम जमा में चूक पर बैंकों ने वसूले 5,000 करोड़ रुपये

नयी दिल्लीः बीते वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान खाते में न्यूनतम राशि नहीं रख पाने को लेकर उपभोक्ताओं से सार्वजनिक क्षेत्र के 21 और निजी क्षेत्र के तीन प्रमुख बैंकों ने 5,000 करोड़ रुपये जुर्माने के रूप में वसूले । बैंकिंग आंकड़ों में इस बात की जानकारी मिली। भारतीय स्टेट बैंक इस मामले में जुर्माना वसूलने में शीर्ष रहा है। इसने कुल 24 बैंकों द्वारा वसूले सम्मिलित 4,989.55 करोड़ रुपये जुर्माने का लगभग आधा 2,433.87 करोड़ रुपये वसूले हैं। उल्लेखनीय है कि एसबीआई को बीते वित्त वर्ष में 6,547 करोड़ रुपये का भारी नुकसान हुआ है। यदि बैंक को यह अतिरिक्त आय नहीं होती, तो उसका नुकसान और ऊंचा रहता। एसबीआई ने 2012 तक खाते में न्यूनतम राशि नहीं रखने पर जुर्माना वसूला था। उसने यह व्यवस्था एक अक्टूबर, 2017 से फिर शुरू की है। भारतीय रिजर्व बैंक के नियमों के अनुसार बैंकों को सेवा-अन्य शुल्क वसूलने का अधिकार है। इस मामले में ग्राहकों से निजी क्षेत्र के बैंक एचडीएफसी बैंक ने 590.84 करोड़ रुपये, एक्सिस बैंक ने 530.12 करोड़ रुपये और आईसीआईसीआई बैंक ने 317.60 करोड़ रुपये वसूले हैं।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

पूर्व सीएफओ से केस हारी इंफोसिस, अब ब्याज सहित देने होंगे 12.17 करोड़

नई दिल्लीः भारत की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस मंगलवार को आर्बिट्रेशन केस हार गई है। अब उसे पूर्व सीएफओ राजीव बंसल को 12.17 करोड़ रुपये और ब्याज चुकाने होंगे। दरअसल, इंफोसिस के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी विशाल सिक्‍का के कार्यकाल [Read more...]

अक्टूबर में शुरू होगी ‘उड़ान‘-3 की बोली प्रक्रिया

नयी दिल्लीः सरकार की क्षेत्रीय हवाई नेटवर्क को विस्तार देने की क्षेत्रीय संपर्क योजना ‘उड़ान’ के तीसरे चरण की बोली प्रक्रिया अक्टूबर में शुरू होगी। विमान सेवा कंपनियों को उसके कुछ गंतव्यों पर केंद्रीय पर्यटन विभाग की ओर से सब्सिडी [Read more...]

मुख्य समाचार

ब्रिटिश गोताखोर ने एलन मस्क पर किया मानहानि मुकदमा

कैलिफोर्नियाः थाईलैंड की गुफा में फंसे बच्चों को बचाने वाले ब्रिटिश गोताखोर वर्नोन अनस्वोर्थ ने अब इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला के सीईओ एलन मस्क के खिलाफ 75,000 डॉलर (54 लाख 40 हजार रुपए) का मानहानि का मुकदमा किया है। अनस्वोर्थ [Read more...]

पूर्व सीएफओ से केस हारी इंफोसिस, अब ब्याज सहित देने होंगे 12.17 करोड़

नई दिल्लीः भारत की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस मंगलवार को आर्बिट्रेशन केस हार गई है। अब उसे पूर्व सीएफओ राजीव बंसल को 12.17 करोड़ रुपये और ब्याज चुकाने होंगे। दरअसल, इंफोसिस के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी विशाल सिक्‍का के कार्यकाल [Read more...]

ऊपर