न्यूनतम जमा में चूक पर बैंकों ने वसूले 5,000 करोड़ रुपये

नयी दिल्लीः बीते वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान खाते में न्यूनतम राशि नहीं रख पाने को लेकर उपभोक्ताओं से सार्वजनिक क्षेत्र के 21 और निजी क्षेत्र के तीन प्रमुख बैंकों ने 5,000 करोड़ रुपये जुर्माने के रूप में वसूले । बैंकिंग आंकड़ों में इस बात की जानकारी मिली। भारतीय स्टेट बैंक इस मामले में जुर्माना वसूलने में शीर्ष रहा है। इसने कुल 24 बैंकों द्वारा वसूले सम्मिलित 4,989.55 करोड़ रुपये जुर्माने का लगभग आधा 2,433.87 करोड़ रुपये वसूले हैं। उल्लेखनीय है कि एसबीआई को बीते वित्त वर्ष में 6,547 करोड़ रुपये का भारी नुकसान हुआ है। यदि बैंक को यह अतिरिक्त आय नहीं होती, तो उसका नुकसान और ऊंचा रहता। एसबीआई ने 2012 तक खाते में न्यूनतम राशि नहीं रखने पर जुर्माना वसूला था। उसने यह व्यवस्था एक अक्टूबर, 2017 से फिर शुरू की है। भारतीय रिजर्व बैंक के नियमों के अनुसार बैंकों को सेवा-अन्य शुल्क वसूलने का अधिकार है। इस मामले में ग्राहकों से निजी क्षेत्र के बैंक एचडीएफसी बैंक ने 590.84 करोड़ रुपये, एक्सिस बैंक ने 530.12 करोड़ रुपये और आईसीआईसीआई बैंक ने 317.60 करोड़ रुपये वसूले हैं।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

ट्रंप सरकार एच-4 वीजाधारकों के वर्क परमिट को रद्द करेगी, भारतीयों पर पड़ेगा सर्वाधिक असर

वॉशिंगटनः अमेरिका में एच-4 वीजाधारकों के वर्क परमिट को ट्रंप सरकार आने वाले 3 माह में रद्द कर सकती है। एक फेडरल कोर्ट ने इस बात [Read more...]

हैकिंग कर छह करोड़ डॉलर की क्रिप्टोकरेंसी चुराया

तोक्योः हैकिंग की एक घटना में करीब 6.7 अरब येन (छह करोड़ डॉलर) की क्रिप्टोकरेंसी की जापान में चोरी कर ली गयी। गुरुवार को यह जानकारी आभासी मुद्रा विनिमय बाजार की एक संचालक कंपनी ने दी। कंपनी ने कहा कि [Read more...]

मुख्य समाचार

‘सबका साथ सबका विकास’ के मिशन के साथ आगे बढ़ रहा छत्तीसगढ़ : मोदी

रायपुरः छत्तीसगढ़ के एक दिवसीय संक्षिप्त दौरे पर शनिवार को गये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जांजगीर चांपा जिला में अटल विकास यात्रा के दौरान कृषक सम्मेलन में कहा कि रमन सिंह सरकार ने छत्तीसगढ़ को प्रगति करने वाले राज्यों में [Read more...]

वापसी की राह पर मानसून, कई राज्य रह गए सूखे

नयी दिल्ली : मानसून के बादल सिमटने लगे हैं। इस मौसम में जहां देश के कई इलाकों में जमकर बारिश हुई, वहीं कई इलाकों में इसमें काफी कमी भी दर्ज की गई है। अब तक पूरे देश में मानसून की [Read more...]

ऊपर