टाटा, फाक्सवैगन और स्कोडा ने मिलाया हाथ

नयी दिल्लीः संयुक्त रूप से मिलकर उत्पादों के विकास की दिशा में टाटा मोटर्स ने दुनिया की सबसे बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनी फॉक्सवैगन ग्रुप, स्कोडा के साथ समझौता प्रपत्र पर हस्ताक्षर किया है। इनके संयुक्त उद्यम के तहत पहला उत्पाद 2019 में आने की संभावना है। भारत में यह पहला और दुनिया में दूसरा मौका है, जब दो प्रतियोगी कंपनियों ने ग्राहकों को  बेहतर उत्पादन देने के लिए हाथ मिलाया है।

अवधारणा पर कार्य
बयान के मुताबिक फॉक्सवैगन से लीड लेकर स्कोडा व्हीकल कांसेप्ट (वाहन अवधारणा तैयार) करेगी। टाटा मोटर्स ने कहा कि सहमति पत्र पर टाटा मोटर्स के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) और प्रबंध निदेशक गुएंटर बुट्सचेक, फाक्सवैगन एजी के सीईओ मैथिऑस मुलर तथा स्कोडा आटो के सीईओ बर्हार्ड मेयर ने हस्ताक्षर किये। सहमति पत्र पर दस्तखत के तहत वाहनों के विकास के मामले में स्कोडा आटो फाक्सवैगन की तरफ से अगुवा की भूमिका निभाएगा।

स्वदेशी-विदेशी बाजार है लक्ष्य
बुट्सचेक ने कहा कि दोनों कंपनियों मिलकर भारतीय और विदेशी बाजारों के लिए इनोवेटिव सॉल्यूशन (नए समाधान की खोज) करेंगी। टाटा मोटर्स इस भागीदारी के जरिए भविष्य की जरूरतों के लिए तैयार हो रही है, जिससे ग्राहकों को बेहतर सेवाएं दी जा सकें। तकनीकी का इस्तेमाल कर बेहतर दक्षता के साथ इसके लिए समाधान की तलाश की जाएगी।

पटरी पर लौटा वाहन उद्योग!
नई दिल्लीः वाहन निर्माता कंपनियों के संगठन सियाम के महानिदेशक विष्णु माथुर के मुताबिक नोटबंदी के बाद फरवरी में पहली बार यह उद्योग वापस पटरी पर लौट रहा है। लगातार तीन महीने की गिरावट के बाद फरवरी के दौरान सभी श्रेणी के वाहनों की कुल बिक्री 0.94 फीसदी बढ़कर 17,19,699 पर दर्ज की गई है। वहीं 2016 के फरवरी के दौरान घरेलू बाजार में 17,03,736 वाहनों की बिक्री हुई थी। ग्रामीण अर्थव्यवस्था नोटबंदी की चोट से पूरी तरह नहीं उबर पायी है जिससे मोटरसाइकिलों की बिक्री सर्वाधिक प्रभावित हुई है। हालांकि, लगातार तीन महीने घटने के बाद स्कूटरों की बिक्री में 3.70 फीसदी वृद्धि दर्ज की गई है। वहीं, मोपेड की बिक्री 15.99 फीसदी बढ़कर 77,053 इकाई पर दर्ज की गई है। अागामी दो-तीन माह के दौरान वाहनों की बिक्री में वृद्धि होने की संभावना है।  फरवरी 2017 में बसों को छोड़कर अन्य वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री में वृद्धि दर्ज की गई है। बसों में जहां पांच फीसदी की गिरावट दर्ज की गयी है, वहीं माल ढुलाई वाले भारी तथा मध्यम वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री 6.78 फीसदी बढ़ी है। हल्के वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री भी 9.38 फीसदी बढ़ी है। तिपहिया वाहनों की बिक्री 21.35 फीसदी गिरकर 35356 इकाई दर्ज की गई।

कितना हुआ निर्यात?
– सभी श्रेणी के सभी वाहनों के कुल निर्यात में 20 महीने की सबसे बड़ी तेजी दर्ज की गयी है। यह 11.84 फीसदी बढ़कर 2,85,265 इकाई रही।
वाहन कितना (फीसदी)
यात्री 7.43
दुपहिया 19.29
भारी वाणिज्यिक 7.85
हल्के वाणिज्यिक 16.02 (गिरावट)
तिपहिया 23.88 (गिरावट)

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

सुप्रीम कोर्ट ने पलटा सिरीसेना का फैसला, नहीं होंगे चुनाव

कोलंबो : श्रीलंका के सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के संसद भंग करने के फैसले को निरस्त कर दिया है। इसके अलावा सिरीसेना की ओर से मध्यावधि चुनाव की तैयारियों पर भी रोक लगा दी है। आपको बता दें [Read more...]

अमेरिका ने ईरान को फिर धमकाया

सिंगापुर : ईरान पर प्रतिबंधों को लेकर एक बार फिर अमेरिका का बड़ा बयान आया है। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने कहा है कि उनका देश ईरान को इतना निचोड़ देगा कि उसके अंदर केवल गुठली ही [Read more...]

मुख्य समाचार

सुप्रीम कोर्ट ने पलटा सिरीसेना का फैसला, नहीं होंगे चुनाव

कोलंबो : श्रीलंका के सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के संसद भंग करने के फैसले को निरस्त कर दिया है। इसके अलावा सिरीसेना की ओर से मध्यावधि चुनाव की तैयारियों पर भी रोक लगा दी है। आपको बता दें [Read more...]

अमेरिका ने ईरान को फिर धमकाया

सिंगापुर : ईरान पर प्रतिबंधों को लेकर एक बार फिर अमेरिका का बड़ा बयान आया है। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने कहा है कि उनका देश ईरान को इतना निचोड़ देगा कि उसके अंदर केवल गुठली ही [Read more...]

ऊपर