गुजरात के गैस पावर प्लांट बेचेगी कर्ज में डूबी एस्सार पावर!

मुंबई: रुइया ब्रदर्स की एस्सार पावर कर्ज में डूब चुकी है। हालत यह है कि अपने 20369 करोड़ रुपये के ऋण को चुकाने के लिए यह निजी बिजली कंपनी गुजरात के अपने गैस आधारित दो संयंत्रों को बेचने पर विचार कर रही है। एस्सार पावर के मुख्य वित्त अधिकारी आलोक नागपाल ने कहा कि हम अपनी संपत्तियों के मौद्रिकरण के लिए सभी विकल्पों का आकलन कर रहे हैं। हम गुजरात में अपने दो कैप्टिव गैस आधारित संयंत्रों की बिक्री पर विचार कर रहे हैं।
कंपनी के दो कैप्टिव गैस आधारित संयंत्र गुजरात के हजीरा में है। इनकी क्षमता 500 मेगावाट और 515 मेगावाट की है। ईंधन की कमी की वजह से ये संयंत्र फिलहाल बंद हैं।2006 में हजीरा में 500 मेगावाट का भंदर संयंत्र में शुरू हुआ था, जिसने 2008 में पूर्ण वाणिज्यिक परिचालन शुरू किया, लेकिन ईंधन के ऊंचे मूल्य की वजह से 2013 में यह संयंत्र बंद हो गया। दूसरे प्लांट (515 मेगावाट) से पैदा होने वाली बिजली बेचने के लिए एस्सार पावर हजीरा ने एस्सार स्टील तथा गुजरात ऊर्जा विकास निगम के साथ बिजली खरीद करार किया था। इसे अक्टूबर 1997 में चालू किया गया था।
नागपाल ने कहा कि हम इन संयंत्रों की बिक्री पर विचार कर रहे हैं। दोनों ही संयंत्र तैयार हैं और ईंधन आपूर्ति मिलने के बाद इनका परिचालन शुरू किया जा सकता हूै। हम अभी इसका मूल्यांकन कर रहे हैं और इसमें कुछ समय लग सकता है। उन्होंने कहा कि खरीदार के लिए सबसे बड़ा फायदा यह है कि ईंधन मिलने के बाद इसका परिचालन तत्काल शुरू किया जा सकता है।
एस्सार पावर का हाल
रुइया ब्रदर्स की यूनिट एस्सार पावर लिमिटेड सरकारी कंपनी लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया से बॉन्ड्स के जरिए ली गई 1000 करोड़ रुपये की उधारी पर पेमेंट्स से चूक गई थी। एस्सार पावर और इंफ्रास्ट्रक्चर ग्रुप लैंको दोनों पावर कंपनियां कर्ज नहीं चुका पा रही हैं। कर्ज में डूबी ज्यादातर कंपनियों का कहना है कि उन्हें प्रोजेक्ट्स शुरू करने में दिक्कत आ रही है। उनके मुताबिक, सरकारी क्लीयरेंस में देरी हो रही है। कई पावर कंपनियों ने जरूरत से ज्यादा कर्ज ले रखा है, जिसे चुकाने में अब उनको मुश्किल हो रही है। बैंक लैंको और जेपी ग्रुप जैसी कंपनियों पर एसेट्स बेचकर लोन चुकाने के लिए दबाव बना रहे हैं।
बाद में प्रवक्ता ने क‌िया खंडन
बाद में कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी रुकी हुई परियोजनाओं का परिचालन शुरू कर उन्हें लाभ में लाने की योजना पर ध्यान केंद्रित कर रही है। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हमारा ध्यान और प्राथमिकता अपने संयंत्रों को चालू करने और उन्हें लाभदायक स्थिति में पहुंचाने पर है। फिलहाल हमारी अपनी किसी भी संपत्ति को बेचने की कोई योजना नहीं है।’’ इससे पहले कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा था कि एस्सार पावर पर कर्ज के बोझ को कम करने के लिए वह अपने कुछ संयंत्रों को बेचने पर विचार कर रही है।

Leave a Comment

अन्य समाचार

40 करोड़ उपभोक्ताओं से जुड़ने के बाद महंगी हो जाएगी जियो की टैरिफ!

नई दिल्लीः जियो के माध्यम से टेलीकॉम कंपनियों में शुरू हुई प्राइस वार अब भी जारी रहेगा। इसके चलते आने वाले वर्षों में वोडाफोन और आइडिया जैसी प्रतिस्‍पर्धी कंपनियों को भी दबाव का सामना करना पड़ेगा। ब्‍लूमबर्ग की एक रिपोर्ट [Read more...]

ट्रेड वार पर चीन ने भारत को दी चेतावनी, कहा- पड़ेगा भारी

नई दिल्लीःअमेरिका से ट्रेड वार के बाद अब भारत ने चीन के खिलाफ ट्रेड वार छेड़ दिया है। भारत के ट्रेड वॉर शुरू करने से चीन अब बौखला गया है और उसने भारत को चेतावनी दी है। चीन की सरकार [Read more...]

मुख्य समाचार

भाजपा के सामने किसी राजनीतिक दल की कोई चुनौती नहीं : कैलाश विजयवर्गीय

नीमच : भारतीय जनता पार्टी के महामंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि देश में अब उनकी पार्टी के सामने कांग्रेस या अन्य किसी राजनीतिक दल की कोई चुनौती नहीं है। कैलाश विजयवर्गीय ने बुधवार दोपहर नीमच और जावद में कार्यकर्ताओं [Read more...]

नरेंद्र मोदी और अशरफ गनी के बीच हुई महत्वपूर्ण बैठक

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने अशांत अफगानिस्तान में जारी शांति प्रक्रिया की स्थिति सहित अनेक महत्वपूर्ण क्षेत्रीय एवं द्विपक्षीय मुद्दों पर बुधवार को यहां गहन विचार विमर्श किया। नरेंद्र मोदी के निमंत्रण पर [Read more...]

ऊपर