गुजरात के गैस पावर प्लांट बेचेगी कर्ज में डूबी एस्सार पावर!

मुंबई: रुइया ब्रदर्स की एस्सार पावर कर्ज में डूब चुकी है। हालत यह है कि अपने 20369 करोड़ रुपये के ऋण को चुकाने के लिए यह निजी बिजली कंपनी गुजरात के अपने गैस आधारित दो संयंत्रों को बेचने पर विचार कर रही है। एस्सार पावर के मुख्य वित्त अधिकारी आलोक नागपाल ने कहा कि हम अपनी संपत्तियों के मौद्रिकरण के लिए सभी विकल्पों का आकलन कर रहे हैं। हम गुजरात में अपने दो कैप्टिव गैस आधारित संयंत्रों की बिक्री पर विचार कर रहे हैं।
कंपनी के दो कैप्टिव गैस आधारित संयंत्र गुजरात के हजीरा में है। इनकी क्षमता 500 मेगावाट और 515 मेगावाट की है। ईंधन की कमी की वजह से ये संयंत्र फिलहाल बंद हैं।2006 में हजीरा में 500 मेगावाट का भंदर संयंत्र में शुरू हुआ था, जिसने 2008 में पूर्ण वाणिज्यिक परिचालन शुरू किया, लेकिन ईंधन के ऊंचे मूल्य की वजह से 2013 में यह संयंत्र बंद हो गया। दूसरे प्लांट (515 मेगावाट) से पैदा होने वाली बिजली बेचने के लिए एस्सार पावर हजीरा ने एस्सार स्टील तथा गुजरात ऊर्जा विकास निगम के साथ बिजली खरीद करार किया था। इसे अक्टूबर 1997 में चालू किया गया था।
नागपाल ने कहा कि हम इन संयंत्रों की बिक्री पर विचार कर रहे हैं। दोनों ही संयंत्र तैयार हैं और ईंधन आपूर्ति मिलने के बाद इनका परिचालन शुरू किया जा सकता हूै। हम अभी इसका मूल्यांकन कर रहे हैं और इसमें कुछ समय लग सकता है। उन्होंने कहा कि खरीदार के लिए सबसे बड़ा फायदा यह है कि ईंधन मिलने के बाद इसका परिचालन तत्काल शुरू किया जा सकता है।
एस्सार पावर का हाल
रुइया ब्रदर्स की यूनिट एस्सार पावर लिमिटेड सरकारी कंपनी लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया से बॉन्ड्स के जरिए ली गई 1000 करोड़ रुपये की उधारी पर पेमेंट्स से चूक गई थी। एस्सार पावर और इंफ्रास्ट्रक्चर ग्रुप लैंको दोनों पावर कंपनियां कर्ज नहीं चुका पा रही हैं। कर्ज में डूबी ज्यादातर कंपनियों का कहना है कि उन्हें प्रोजेक्ट्स शुरू करने में दिक्कत आ रही है। उनके मुताबिक, सरकारी क्लीयरेंस में देरी हो रही है। कई पावर कंपनियों ने जरूरत से ज्यादा कर्ज ले रखा है, जिसे चुकाने में अब उनको मुश्किल हो रही है। बैंक लैंको और जेपी ग्रुप जैसी कंपनियों पर एसेट्स बेचकर लोन चुकाने के लिए दबाव बना रहे हैं।
बाद में प्रवक्ता ने क‌िया खंडन
बाद में कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी रुकी हुई परियोजनाओं का परिचालन शुरू कर उन्हें लाभ में लाने की योजना पर ध्यान केंद्रित कर रही है। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हमारा ध्यान और प्राथमिकता अपने संयंत्रों को चालू करने और उन्हें लाभदायक स्थिति में पहुंचाने पर है। फिलहाल हमारी अपनी किसी भी संपत्ति को बेचने की कोई योजना नहीं है।’’ इससे पहले कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा था कि एस्सार पावर पर कर्ज के बोझ को कम करने के लिए वह अपने कुछ संयंत्रों को बेचने पर विचार कर रही है।

Leave a Comment

अन्य समाचार

सागर रत्ना ने स्टार्लिंग मॉल में नया आउटलेट खोला

32 साल पहले जयराम बानन ने डिफेंस कॉलोनी मार्केट, नई दिल्ली में अपने पहले दक्षिण भारतीय शाकाहारी रेस्त्रां सागर रत्ना से एक मामूली शुरुआत की थी। आज, एक निर्विवाद डोसा किंग के रूप में उनका कद काफी ऊंचा है। देश [Read more...]

कल से बदल जाएंगे ये नियम, जरूर पढ़े

नई दिल्लीः कल यानी एक जनवरी 2019 से बैंकिंग, इंश्योरेंस और आयकर समेत आम आदमी पर असर डालने वाले छह नए नियम लागू हो जाएंगे। 5 लाख रुपए से ज्यादा आय वाले जो करदाता 31 दिसंबर तक वित्त वर्ष 2017-18 [Read more...]

मुख्य समाचार

सब्जी वाले से पत्नी ने हंसकर की बात तो पति ने उड़ा दी गर्दन

राजस्‍थान : पत्नी ने हंसकर बात की तो पति ने उड़ा दी सब्जी बेचने वाले की गर्दन। यह अजीब मामला राजस्‍थान के राजसमंद जिले की है। राजस्थान के एक गांव में 27 साल के नैना स‍िंह ने 48 साल के [Read more...]

प्रवासी भारतीय दिवस में होंगे दो नये आकर्षण : स्वराज

प्रवासी भारतीय दिवस के लिए अब तक 5802 लोगों का पंजीकरण।।अतिथियों को बदलती हुई काशी दिखायी जायेगी : योगी लखनऊ : केन्द्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस की। [Read more...]

ऊपर