विदेशी निवेशकों ने बाजार से निकाले 5600 करोड़ रुपये

नयी दिल्लीः पिछले पांच कारोबारी सत्रों में पूंजी बाजार से विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने 5,600 करोड़ रुपये की निकासी की है। उन्होंने लगातार इससे पहले दो महीनों में निवेश किया था। डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार तीन से सात सितंबर के बीच एफपीआई ने शेयर बाजार से 1,021 करोड़ रुपये और ऋण बाजार से 4,628 करोड़ रुपये की निकासी की। इस प्रकार कुल निकासी 5,649 करोड़ रुपये की रही। अगस्त में एफपीआई ने 2,300 करोड़ रुपये का निवेश किया था। इससे पहले अप्रैल से जून के बीच विदेशी निवेशकों ने 61,000 करोड़ रुपये की निकासी की थी।
क्या है कारण
ताजा निकासी का अहम कारण बाजार विशेषज्ञों के अनुसार रुपये की कीमत में गिरावट और कच्चे तेल की कीमतों का बढ़ना है। एफपीआई निवेश को लेकर बाजार नियामक सेबी के दिशानिर्देशों से भी बाजार में चिंता का माहौल है। कमजोर वैश्विक बाजारों ने भी इस पर असर डाला है।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

पूर्व सीएफओ से केस हारी इंफोसिस, अब ब्याज सहित देने होंगे 12.17 करोड़

नई दिल्लीः भारत की दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस मंगलवार को आर्बिट्रेशन केस हार गई है। अब उसे पूर्व सीएफओ राजीव बंसल को 12.17 करोड़ रुपये और ब्याज चुकाने होंगे। दरअसल, इंफोसिस के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी विशाल सिक्‍का के कार्यकाल [Read more...]

दिल्ली में पेट्रोल 82 रुपये के पार

नयी दिल्लीः आम आदमी को पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से राहत मिलती नहीं दिख रही। दोनों ईंधनों के दाम सोमवार को लगातार पांचवें दिन बढ़े। दिल्ली में पेट्रोल के भाव 15 पैसे बढ़कर 82.06 रुपये प्रति लीटर और डीजल छह [Read more...]

मुख्य समाचार

तमिलनाडु में भ्रष्टाचार के खिलाफ द्रमुक का प्रदर्शन

चेन्नईः तमिलनाडु की अन्नाद्रमुक सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए विपक्षी द्रमुक ने अपने पार्टी प्रमुख एमके स्टालिन के नेतृत्व में मंगलवार को पूरे राज्य में अन्नाद्रमुक के खिलाफ प्रदर्शन किया। स्टालिन के अलावा, उनके बेटे उदयनिधि, बहन कनिमोझी [Read more...]

तेलंगाना में टीआरएस के लिए भाजपा चुनौती : राव

हैदराबादः भाजपा प्रवक्ता व राज्यसभा सदस्य जीवीएल नरसिम्हा राव ने मंगलवार को कहा कि तेलंगाना में कांग्रेस-तेदेपा गठजोड़ से उसकी चुनावी संभावनाओं में सुधार हुआ और वहां वह खुद को टीआरएस के लिए मुख्य चुनौती मानती है क्योंकि पार्टी अपने [Read more...]

ऊपर