अर्थव्यवस्था में आवश्यक सुधार किये जायेंगे: मोदी

नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को लागू किये जाने का उल्लेख करते हुये कहा कि देश के व्यापार जगत को और भारत की अर्थव्यवस्था को नई ताकत देने के लिए आवश्यक सुधार किये जायेंगे। मोदी ने यहां कारोबारी सुगमता पर आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि भारत में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को लागू करने को लेकर लोगों को संशय था कि 01 जुलाई से इसे क्रियान्वित किया जायेगा या नहीं।

लेकिन, 01 जुलाई से जब यह लागू हुआ तो व्यापारियों को लगा कि अब मर गये। तब सरकार ने कहा था कि तीन महीने जीएसटी की बारिकियों को देखने दिया जाये क्योंकि हिन्दुस्तान बहुत बड़ा है। उन्होंने कहा कि सिर्फ दिल्ली में बैठने वालों की समझ ही बेहतर नहीं है, बल्कि देश के सामान्य मानव के पास भी समझ है और उनसे समझने, सीखने, कठिनाइयों का अनुमान लगाने और तीन महीने के बाद जीएसटी पर विस्तृत चर्चा करने की बात कही गयी थी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि तीन महीने बाद जब जीएसटी परिषद की बैठक हुयी तो उसमें जुलाई के बाद जितनी कठिनाइयां आयी उन पर चर्चा की गयी और समाधान पर काम शुरू किया गया और राज्यों के मंत्रियों तथा अधिकारियों की समितियां बनाईं गयी। उन्होंने कहा कि शब्दसह रिपोर्ट अभी उनके पास नहीं आयी है, लेकिन जीएसटी परिषद ने मंत्रियों की जो समिति बनाई थी उसने कारोबारियों की अधिकांश समस्याओं पर गौर किया है और व्यापारियों के सुझावों को सकारात्मकता के साथ स्वीकार किया जा रहा है।

मोदी ने कहा कि 09 और 10 नवंबर को जीएसटी परिषद की बैठक हो रही है उसमें अगर कोई राज्य कठिनाई पैदा नहीं करेगा तो भारत के व्यापार जगत को और देश की आर्थिक व्यवस्था को नई ताकत देने में जो भी आवश्यक सुधार होंगे वे किये जायेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि एक नई व्यवस्था को स्वीकार करना होता है और वर्षों पुरानी व्यवस्था से बाहर निकलना होता है। उन्होंने कहा कि जीएसटी इस बात का भी एक उत्तम उदाहरण बनने वाला है कि सबकी भावनाओं का आदर करते हुए व्यवस्थाओं को पूरी तरह कारगर कैसे बनाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि विश्व बैंक की कारोबारी सुगमता रिपोर्ट में मई 2017 तक के ही सुधार शामिल हैं जबकि जीएसटी 01 जुलाई से लागू हुआ है। इसलिए यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि जब 2018 में इस पर चर्चा होगी तो जो उपाय किये गये वे भी जुड़ेंगे।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

अगड़ी जाति के लोगों को 10 प्रतिशत आरक्षण के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंची डीएमके

नयी दिल्‍ली : चुनावी वर्ष के शुरुआत से ही राजनीतिक दलों द्वारा तरह तरह के ऐसे हथकंडे अपनाये जा रहे है ताकि उन्‍हें लगे कि वे ही जनता के सच्‍चे हितैषी है। इसी क्रम में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी [Read more...]

उत्तर प्रदेश में गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण पर कैबिनेट की मुहर

लखनऊः कैबिनेट की बैठक में यूपी में गरीब सवर्णों के लिए 10 फीसदी आरक्षण लागू करने के प्रस्ताव पर फैसला लिया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके लिए अध्यादेश के मसौदे को भी मंजूरी दे दी है। इसके तहत [Read more...]

मुख्य समाचार

अगड़ी जाति के लोगों को 10 प्रतिशत आरक्षण के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंची डीएमके

नयी दिल्‍ली : चुनावी वर्ष के शुरुआत से ही राजनीतिक दलों द्वारा तरह तरह के ऐसे हथकंडे अपनाये जा रहे है ताकि उन्‍हें लगे कि वे ही जनता के सच्‍चे हितैषी है। इसी क्रम में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी [Read more...]

उत्तर प्रदेश में गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण पर कैबिनेट की मुहर

लखनऊः कैबिनेट की बैठक में यूपी में गरीब सवर्णों के लिए 10 फीसदी आरक्षण लागू करने के प्रस्ताव पर फैसला लिया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके लिए अध्यादेश के मसौदे को भी मंजूरी दे दी है। इसके तहत [Read more...]

ऊपर