अमेरिका,चीन के बाद भारत हवाई यात्रा में आगे

नई दिल्लीः अमेरिका और चीन के बाद भारत आगामी एक दशक के दौरान हवाई यात्रा के मामले में तीसरा सबसे बड़ा देश होगा। अंतरराष्ट्रीय उड्डयन परिवहन एसोसिएशन (आईएटीए) के मुताबिक 20 वर्षों के दौरान हवाई यात्रियों की तादाद दोगुनी हो जाएगी और नए हवाई यात्रियों में 50 फीसदी से ज्यादा भारत-चीन जैसे देशों के एशिया-प्रशांत क्षेत्र के होंगे। आईएटीए ने प्रति वर्ष 3.7 प्रतिशत की दर से हवाई यात्रियों की संख्या में औसत वृद्धि के आधार पर यह अनुमान लगाया है। एसोसिएशन के सीईओ एलेक्जेंडर डि जुनिएक के मुताबिक आय बढ़ने के साथ लोग व्यापार, पर्यटन और कामकाज के लिए उड्डयन सेवा में जबरदस्त उछाल आएगा।

भारत-चीन में सर्वाधिक मांग

आईएटीए के मुताबिक चीन घरेलू और विदेशी उड़ानों के मामले में 2029 तक अमेरिका को पीछे छोड़ पहली पायदान पर आ जाएगा। जबकि भारत 2026 तक उड़ानों और हवाई यात्रियों के मामले में ब्रिटेन को पीछे कर तीसरी पायदान पर होगा। रिपोर्ट के मुताबिक, गत दस वर्षों के दौरान विकासशील देशों में हवाई यात्रियों की संख्या में 24 से 40 प्रतिशत तक का इजाफा हुआ है और यह बढ़ोत्‍तरी आगे भी जारी रहेगी।

विस्तार करना होगा

आईएटीए ने आगाह किया कि अगर देशों ने बाजार को खोलने की बजाय संरक्षणवादी नीति को अपनया तो 2035 तक यात्रियों की संख्या 5.8 अरब तक सीमित रह सकती है। ऐसे में भारत और चीन जैसे मांग वाले देशों को हवाई अड्डों के लिए रनवे, टर्मिनल, एयर ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम, बैगेज सिस्टम जैसे बुनियादी ढांचे के विस्तार पर ध्यान केंद्रित करना होगा।

सरकार-उद्योग मिलकर करें काम

जुनिएक के मुताबिक एयरलाइनों को उड्डयन क्षेत्र की समय रहते नई तकनीक अपनाने के लिए सरकार के साथ मिलकर काम करना चाहिए। जैसे कि हवाई ईंधन में कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने के हालिया समझौते के बाद बदलाव जरूरी है। आईएटीए 117 देशों की 265 एयरलाइनों के 83 फीसदी वैश्विक हवाई यातायात का प्रतिनिधित्व करती है। इन एयरलाइनों में 2014 में 2.2 अरब यात्रियों ने सफर किया।

 

 

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

‘ब्याज दरें बढ़ा सकता है रिजर्व बैंक’

नयी दिल्लीः चालू वित्त वर्ष में भारतीय रिजर्व बैंक ब्याज दरों में और वृद्धि कर सकता है। यह बात भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के एक सर्वेक्षण में सामने आयी है। देश की 40% से अधिक कंपनियों ने यह राय व्यक्त [Read more...]

ट्रंप सरकार एच-4 वीजाधारकों के वर्क परमिट को रद्द करेगी, भारतीयों पर पड़ेगा सर्वाधिक असर

वॉशिंगटनः अमेरिका में एच-4 वीजाधारकों के वर्क परमिट को ट्रंप सरकार आने वाले 3 माह में रद्द कर सकती है। एक फेडरल कोर्ट ने इस बात [Read more...]

मुख्य समाचार

‘धोनी रिव्यू सिस्टम’ ने फिर बनाया मुरीद

नयी दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने एक बार फिर से अपने फैसले से साबित कर दिया कि डीआरएस के मामले में उनसे सटीक कोई नहीं है। अगर वह इशारा कर दें तो मान लीजिए [Read more...]

केजरीवाल ने शाह को दी बहस की चुनौती

नयी दिल्लीः भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर काम नहीं करने के बयान पर केजरीवाल ने रविवार को कहा कि जितना काम उन्होंने किया है उसे कोई चुनौती नहीं दे सकता। जनता की सेवा का [Read more...]

ऊपर